मेरठ, जागरण संवाददाता। Duty fraud in counting office एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने गणना कार्यालय में ड्यूटी का फर्जीवाड़ा पकड़ा है। पुलिस लाइन में तैनात पुलिसकर्मियों की घर बैठे ही उपस्थिति दर्ज करा दी जाती थी। एएसपी की जांच में पर्दाफाश होने पर ड्यूटी मुंशी गौरी शंकर को निलंबित कर दिया गया है।

800 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी

पुलिस लाइन स्थित गणना कार्यालय से रोजाना 800 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई जाती है। जेल से मुल्जिमों को लाने, गर्नर ड्यूटी, एस्कार्ट ड्यूटी और वीआइपी ड्यूटी में भी पुलिसकर्मी गणना कार्यालय से भेजे जाते हैं। बाहर के जनपदों या पुलिस लाइन के समस्त फोर्स और थानों से लाइन में किए गए पुलिसकर्मियों का रिकार्ड भी गणना कार्यालय में रहता है।

कार्यालय में सेटिंग

कुछ पुलिसकर्मी गणना कार्यालय में सेटिंग कर ड्यूटी पर नहीं जाते हैं। इसकी एवज में गणना कार्यालय में तैनात मुंशी वसूली करते हैं। इस बार भी गणना कार्यालय से लगातार पुलिसकर्मियों से वसूली की शिकायत आ रही थी। मुंशी को पैसे देने वाले पुलिसकर्मियों को ड्यूटी से हटा दिया जाता था। इसकी शिकायत गोपनीय तरीके से एसएसपी प्रभाकर चौधरी को दी गई। उन्होंने एएसपी विवेक यादव से मामले की जांच कराई। गौरी शंकर के खिलाफ विभागीय जांच भी बैठा दी गई है।

सख्‍ती के बावजूद फर्जीवाड़ा

सभी 800 पुलिसर्मियों की गणना कार्यालय में हर रोज रात आठ बजे की जाती है। एसएसपी ने तो समस्त थानों में भी रात को गणना कराने का आदेश जारी किया था। बाकायदा क्षेत्राधिकारी को गणना करने के आदेश दिए थे। एसएसपी की इतनी सख्ती के बावजूद पुलिस लाइन के गणना कार्यालय में ड्यूटी का फर्जीवाड़ा कर दिया गया। अब एएसपी रात को सभी 800 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी का रिकार्ड खुद देख रहे हैं। अब लगातार ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मियों को रिजर्व में कर दिया है, रिजर्व वालों की प्रतिदिन ड्यूटी लगाई जा रही है।

इनका कहना है

गणना कार्यालय में ड्यूटी लगाने का फर्जीवाड़ा सामने आया है। जांच में आरोप सही मिलने पर कप्तान को रिपोर्ट भेजी गई थी, जिस पर मुंशी को निलंबित कर विभागीय कार्रवाई के आदेश दिए गए हैं ताकि दोबारा से इस प्रकार का कृत्य सामने न आए।

- विवेक यादव, एएसपी

Edited By: Prem Dutt Bhatt