मेरठ, जेएनएन। उत्तर प्रदेश पुलिस के 49 हजार आरक्षी पदों के लिए प्रदेश के 8 सेंटरों में से मेरठ में चल रही नाप तोल प्रक्रिया में गुरुवार को एक मुन्नाभाई पकड़ा गया। खुलासा हुआ कि उसने बनारस में अपनी जगह किसी सॉल्वर को लिखित परीक्षा में बैठाया था और नापतौल प्रक्रिया में खुद पहुंच गया। क्राइम ब्रांच ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। सिविल लाइन थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।

बायोमैट्रिक और चेहरा मिलान नहीं हुआ 

मेरठ पुलिस लाइन में फिलहाल अभ्यार्थियों की नापतौल प्रक्रिया चल रही है। गुरुवार को मुजफ्फरनगर पैनल में एक अभ्यर्थी अनूप कुमार अपनी नापतौल और शैक्षिक दस्तावेजों की जांच के लिए पहुंचा। भर्ती बोर्ड से आये दस्तावेजों से अनूप का बायोमैट्रिक और चेहरा मिलान नहीं हुआ। भर्ती अधिकारी संजीव वाजपेयी ने जब उससे पूछताछ की तो सारा मामला उजागर हुआ।

दो लाख में सॉल्‍वर गैंग से सौदा

अनूप कुमार पुत्र धन सिंह मूल रूप से औरंगाबाद (बिहार) का रहने वाला है। उसने बनारस के एएसएम इंटर कॉलेज में 28 जनवरी को यूपी पुलिस भर्ती की लिखित परीक्षा में अपनी जगह किसी और सॉल्वर को बैठा दिया था। परीक्षा में सॉल्वर ने एडमिट कार्ड में अपना फोटो और बायोमेट्रिक प्रयोग किया और इंट्री पा गया। अब जब नापतौल की बारी आई तो गड़बड़झाला पकड़ा गया। पता चला कि लिखित परीक्षा में पास होने के लिए सॉल्वर गैंग ने अनूप से दो लाख रुपये में सौदा किया था। भर्ती अधिकारी ने क्राइम ब्रांच को बुलाकर आरोपी अनूप को सुपुर्द कर दिया। भर्ती पैनल अधिकारी की तरफ से सिविल लाइन थाने में आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जा रहा है। 

Posted By: Taruna Tayal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस