मेरठ, जेएनएन। सरधना के गंाव भामौरी में बीते दिनों डेंगू के दो मरीज मिलने के बाद अन्य गांव में बीडीओ द्वारा आए दिन फांगिग करवाई जा रही है। उधर, ग्राम प्रधान भी साफ-सफाई पर विशेष जोर दे रहे है।

बीडीओ सुनीत कुमार ने बताया कि डेंगू से बचाव को आए दिन गांव में फांगिग का अभियान चलाया जा रहा है। विभाग के पास चार फागिग की मशीन है। अभी एक और मशीन खरीदने की बात चल रही है। उन्होंने बताया कि एक युवक को चार गांवों की जिम्मेदारी दे रखी है। शुक्रवार को फरीदपुर गांव में फागिग करवाई गई। साथ ही लोगों को डेंगू से बचाव के लिए जागरूक किया गया।

सीएचसी प्रभारी का दावा सर्वे पूरा, नहीं मिला मरीज

सरधना तहसील के अंतर्गत 39 गांव आते है। सीएचसी प्रभारी डा. अमित त्यागी ने दावा किया कि स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 39 गांव का सर्वे कर लिया है। जिसमें कोई भी डेंगू का मरीज नहीं मिला, जबकि बीते दिनों भामौरी गांव में डेंगू के दो मरीज मिले थे। एसीएमओ डा. एसके अरोरा ने गांव का निरीक्षण कर दिशा-निर्देश दिए है। हालांकि, एक मरीज ठीक होकर घर पहुंच गया है। वहीं, सीएचसी प्रभारी का यह भी कहना था कि जिस गांव में डेंगू का मरीज सामने आएगा। उसी गांव का सर्वे किया जाएगा।

प्रतिबंधित पालीथिन के खिलाफ चला अभियान : मवाना नगर पालिका की ओर से शुक्रवार को प्रतिबंधित पालीथिन के खिलाफ अभियान चलाया गया। ईओ सुनील कुमार की अगुवाई में चलाए गए अभियान के दौरान टीम ने 20 किलो प्लास्टिक के गिलास, चम्मच, पालीथिन बैग पाण् जाने पर 14 दुकानदारों से 1600 रुपये का जुर्माना वसूला। इस दौरान टीम की छापामार कार्यवाही का कुछ लोगों ने विरोध करते हुए अभद्रता भी की गई। लिपिक उमेश से ईओ ने बताया कि अभियान जारी रहेगा। अभियान में पुलिस फोर्स को साथ लिया जायेगा। टीम में लिपिक उमेश, देवेंद्र कुमार, जगपाल सिंह, अमरदीप, जाहिद आदि कर्मचारी साथ रहे।

Edited By: Jagran