बुलंदशहर, जेएनएन। टिड्डी दल के आक्रमण की आशंका को लेकर किसानों की नींद उड़ गई है। किसान जहां फसल की पहरेदारी कर रहे हैं वहीं प्रशासन ने भी कीटनाशकों का फसल पर छिड़काव के साथ ही टिड्डी को मारने के लिए दवाओं का सहारा लेने की तैयारी शुरू कर दी है। कृषि विभाग के अधिकारी दिल्ली से आने वाली सेटेलाइट तस्वीरों द्वारा तैयार रिपोर्ट का भी आंकलन कर रहे हैं। टिडडी दल के आगे बढ़ने की दिशा और रफ्तार को लेकर भी निगरानी की जा रही है।

टिड्डी दल की आहट से जिला प्रशासन और किसान सतर्क हो गए हैं। उपनिदेशक कृषि आरपी चौधरी ने बताया कि टिड्डियों से बचाव के लिए नगर पालिका व नगर पंचायत में रासायनिक घोल तैयार करने व दमकल वाहनों को इसके लिए तैयार रहने पर विचार चल रहा है। किसानों को बचाव के उपाय बताए जा रहे हैं। बलुई मिट्टी की जुताई कर जलभराव कराया जा रहा है इससे टिड्डियों के विकास की संभावना कम हो जाती है। किसानों को बताया जा रहा है कि टिड्डियों को देखते ही शोर मचाएं, खाली टिन के डिब्बे, थाली व ताली बजाने के साथ खेतों में धुंआ करें। किसान फसलों की पहरेदारी करने में जुट गए हैं और दल बनाकर रात खेतों पर गुजार रहे हैं।

हर दिन आ रही सेटेलाइट रिपोर्ट

टिड्डी दल को लेकर केंद्र व प्रदेश सरकार गंभीर है। हर दिन सेटेलाइट से रिपोर्ट तैयार कर संबंधित राज्यों और जिलों को सीधे भेजी जा रही है। बुलंदशहर को भी हर दिन रिपोर्ट मिल रही है और अधिकारी अपनी तैयारी कर रहे हैं। उपनिदेशक कृषि ने बताया कि गुरुवार को आई सेटेलाइट रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान के अलवर जिले में टिडडी दल की लोकेशन मिली है, जो तेजी से आगे बढ़ रहा है।

टिड्डी दैवीय आपदा घोषित

टिड्डियों के दल में भारी संख्या होने के कारण सरकार अब इससे निपटने के लिए कीटनाशी नियम के अंतर्गत रोकथाम न करके दैवीय आपदा राहत कोष से करेगी। डीएम की अनुमति पर एक लाख रुपये टिड्डी दल को भगाने और नष्ट करने में खर्च किए जाएंगे। प्रशासन ने भी फसलों पर स्प्रे करने के लिए दवाओं की खरीद की योजना तैयार कर ली है।

इन्होंने कहा...

टिड्डी दल से निबटने के लिए नगर पालिका और पंचायतों के टैंकर तथा अग्निशमन दल के टैंकर के साथ-साथ आम के बागों में छिड़काव करने वाले टैंकरों में रसायन भरकर स्प्रे कराया जाएगा। इसके लिए रणनीति तैयार की जा रही है। किसानों को भी लगातार जागरूक किया जा रहा है।-आरपी चौधरी, उप निदेशक कृषि  

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस