मेरठ, जेएनएन। शहर के एक प्रतिष्ठित विवि से एमबीए कर रही छात्रा को गढ़मुक्तेश्वर से अगवा कर बुलंदशहर में चांदपुर पूढी गांव में ले जाकर सामूहिक दुष्कर्म किया गया। विरोध करने पर मारपीट कर बोरे में डालकर कमरे में बंद कर दिया। छात्रा के मोबाइल की लोकेशन से पुलिस परिवार के साथ मौके पर पहुंची, जिसके बाद छात्रा को बंधक मुक्त कराया गया। गंभीर हालत होने पर पीड़िता को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया है। छात्रा के फ्रेंड सर्किल की जांच के लिए गढ़ पुलिस की एक टीम ने विवि पहुंचकर जानकारी ली। वहीं न्‍यूज एजेंसी एएनआइ के मुताबिक इस संबंध में आइजी रेंज प्रवीण कुमार का कहना है कि जांच के बाद पता चला है कि यह घटना दुष्‍कर्म या सामूहिक दुष्‍कर्म की नहीं है। 

कार में अगवा कर ले गए

गढ़मुक्तेश्वर की रहने वाली छात्रा शहर के एक प्रतिष्ठित विवि से एमबीए कर रही हैं। वह रोजाना गढ़ से मेरठ के लिए आती-जाती है। गुरुवार को छात्रा गढ़ से विवि आने के लिए बस स्टैंड के पास खड़ी थी, तभी आरोप है कि बुलंदशहर के चांदपुर पूढी थाना स्याना निवासी प्रियांशु  ने अपने साथी आकाश, सुमित और सोनी निवासीगण हापुड़ के साथ कार में छात्रा को अगवा कर लिया। उसके बाद सभी उसे प्रियांश के घर पर ले आए, जहां पर परिवार का कोई सदस्य न था। आरोप है कि चारों युवकों ने छात्रा से दुष्कर्म किया।

कमरे में बंद कर पिटाई की

विरोध करने पर उसकी पिटाई की और बोरे में बंद कर कमरे में रख दिया। कमरे का ताला डाल आरोपित निकल गए। देर शाम तक भी छात्रा विवि से नहीं लौटी। तब परिवार के लोगों ने गढ़ थाने में मामले की जानकारी दी। छात्रा के मोबाइल की लोकेशन बुलंदशहर मिली। लोकेशन के आधार पर परिवार के साथ मिल पुलिस ने छात्रा को बरामद कर लिया।

विवि नहीं आई थी छात्रा

उसके बाद छात्रा के पिता की तहरीर पर चारों आरोपितों के खिलाफ गढ़मुक्तेश्वर थाने में मुकदमा दर्ज किया। साथ ही घायल अवस्था में छात्रा को मेडिकल कॉलेज में भर्ती करा दिया। उसके बाद गढ़ पुलिस की एक टीम विवि में जांच को पहुंची थी। पता चला छात्रा विवि नहीं आई थी।

दो दिन से कर रहे थे पीछा

दुष्कर्म के आरोपित पिछले दो दिनों से गढ़ से लेकर मेरठ तक छात्रा का पीछा कर रहे थे। छात्रा को प्रियांश पहले से जानता था। छात्रा ने अब प्रियांश से बातचीत करना बंद कर दिया था। इसलिए उसने छात्रा को अपने साथियों के साथ उठा लिया।

आइजी बोले, नहीं हुआ दुष्‍कर्म लड़के की तलाश जारी  

वहीं न्‍यूज एजेंसी एएनआइ के मुताबिक इस संबंध में आइजी रेंज प्रवीण कुमार का कहना है कि जांच के बाद पता चला है कि यह घटना दुष्‍कर्म या सामूहिक दुष्‍कर्म की नहीं है। अभी तक जो तथ्य सामने आए हैं, उनके मुताबिक़ लड़की अपनी मर्जी से अपने बचपन के दोस्त के साथ मोटरसाइकिल से गयी थी और इसी दौरान हुई किसी मार्ग दुर्घटना में वह घायल हो गई, जब इस लड़की के परिजन पुलिस के पास पहुंचे तब उन्होंने जानकारी दी कि उन्हें पता है कि लड़की कहां पर होगी और परिजन पुलिस को अपने साथ लेकर सीधे लड़के के आवास पर पहुंचे और वहां से लड़की को बरामद किया गया, वह घायल अवस्था में थी और लड़का वहां से गायब था। आगे की जांच के लिए लड़के की तलाश की जा रही है। 

इनका कहना है

छात्रा के पिता की तहरीर पर चारों युवकों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कर लिया है। हालांकि अभी कोई भी आरोपित गिरफ्तार नहीं हुआ है। जल्‍द ही आरोपितों को पकड़ लिया जाएगा। 

- डॉक्‍टर तेजवीर सिंह, सीओ, गढ़मुक्तेश्वर  

प्रियांशु को थाने लेकर पहुंचे ग्रामीण 

एसपी देहात हरेंद्र कुमार और स्याना इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार शर्मा का कहना है कि गांव चांदपुर पुट्ठी के प्रधान कई ग्रामीणों के साथ शनिवार को थाने पहुंचे और प्रियांशु नाम के आरोपित को पुलिस को सौंप गए। प्रियांशु फिलहाल स्याना पुलिस की हिरासत में है। ग्राम प्रधान और अन्य ग्रामीणों का कहना है कि यदि प्रियांशु और अन्य युवक दोषी हैं तो उन्हें फांसी दे दी जाए और निर्दोष है तो उन्हें फंसाया न जाए। ग्रामीणों का कहना है कि प्रियांशु और उसके दोस्तों को फंसाया जा रहा है। लड़की खुद लड़के के साथ पहले भी कई बार गांव में आ चुकी है। प्रियांशु बेकसूर है, इसीलिए वह खुद उसे थाने में लेकर आए हैं।

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस