मेरठ । इस बार होली का गुलाल स्वयंसेवक नए अंदाज में उड़ाएंगे। उनकी टोली राष्ट्रगीत गाते हुए शहर-शहर, गांव-गांव निकलेगी। वहीं, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े विद्यार्थी झोले में पुस्तक लेकर आपसे पूछते हुए मिल जाएंगे कि श्रीमान किताब पढ़नी हो तो हमसे कुछ समय के लिए निश्शुल्क ले सकते हैं।

संघ प्रमुख मोहन भागवत ने स्वयंसेवकों को सीख दी कि समाज में घुलने-मिलने व समाज को अपने स्वभाव के अनुसार बदलने के लिए बहुत उपक्रम करने होंगे। तमाम विद्यार्थी संघ से जुड़े हुए हैं, उन्हें हम तो स्वयंसेवक मानते हैं पर समाज उन्हें बच्चा ही मानता है। बड़े-बुजुर्गो से बात करें। उनके पास बैठें, इसलिए 'झोला पुस्तकालय' शुरू करें। लोगों को निश्शुल्क पुस्तकें पढ़ने के लिए दें। जो लोग किताब दान करना चाहते हैं, उनसे किताबें लें और लोगों को निश्शुल्क पढ़ने के लिए दें। साहित्य बिक्री का भी उपक्रम करें। होली में टोली निकालने के लिए कहा। कहा कि स्वयंसेवक राष्ट्रगीत गाते हुए लोगों से मिलें और उन्हें स्नेह से गुलाल लगाएं। इससे समाज में उन्हें गंभीरता से लिया जाएगा। लोगों को वाहन चलाना सिखाने या अन्य कार्य में मदद कर सकते हैं। तरुण व प्रौढ़ स्वयंसेवक भी अपने-अपने स्तर से समाज में अपनी मौजूदगी दर्ज कराएं। इसी तरह से अन्य लोग समाज घुले-मिलें। सेवा कार्य से ही समाज में बदलाव लाया जा सकता है।

दंड, युद्ध और पद विन्यास में निकाली कमियां

संकल्प शिविर के समापन पर मोहन भागवत ने स्वयंसेवकों का शारीरिक, योग एवं व्यायाम प्रदर्शन देखा। उन्होंने व्यायाम, योग को बेहतर बताया। साथ ही दंड, युद्ध और पद विन्यास की कमियों के बारे में स्वयंसेवकों को बताते हुए दंड को चलाने के लिए अभ्यास करने को कहा। प्रदर्शन के दौरान कई स्वयंसेवक बातचीत कर रहे थे, जिस पर उन्होंने कहा कि इस आदत में सुधार करें। इसके लिए सभी को समझदारी जागृत करनी होगी।

आश्रम पहुंचे मोहन भागवत, ब्रह्माचारियों के खिचवाई फोटो

जानीखुर्द में संघ प्रमुख मोहन भागवत रविवार को टीकरी गांव स्थित गुरुकुल प्रभात आश्रम पहुंचे। इस दौरान आश्रम के ब्रह्माचारियों ने तिलक लगाकर उनका स्वागत किया। मोहन भागवत ने गुरुकुल के कुलाधिपति स्वामी विवेकानंद सरस्वती से बंद कमरे में देश की राजनीति, सुरक्षा समेत कई बिंदुओं पर वार्ता की। इसके बाद उन्होंने आश्रम के ब्रह्माचारियों के साथ फोटो खिंचवाई। उनके आगमन से कई घंटे पहले ही आश्रम के चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात की गई थी। क्षेत्रीय विधायक जितेंद्र पाल सिंह, वचन सिंह, अशोक, अजय गुप्ता, पंकज पूठ, संजय आदि मौजूद रहे।

क्षेत्र संघचालक के घर व्यक्त की शोक संवेदना

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र संघचालक सूर्य प्रकाश टौंक के घर शोक संवेदना व्यक्त करने मोहन भागवत देवलोक कालोनी पहुंचे। टौंक के पिता ईश्वर शरण का शनिवार को लंबी बीमारी से निधन हो गया था। संघ प्रमुख ने उनके पिता की तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। टौंक के परिजनों के बीच करीब 20 मिनट वक्त बिताया। इस मौके पर क्षेत्र प्रचारक आलोक कुमार भी साथ थे। वहीं शोक संवेदना व्यक्त करने पंचायतीराज मंत्री भूपेंद्र चौधरी भी पहुंचे। विधायक दिनेश खटीक, आरएसएस से फूल सिंह, विनोद भारती, धनीराम, अमरजीत व भाजपा से चरण सिंह लिसाड़ी आदि भी पहुंचे। उधर, उनके घर पहुंचने से पहले पूरी कालोनी छावनी में तब्दील कर दी गई। जगह-जगह पुलिस तैनात की गई और उनका काफिला आने के दौरान ट्रैफिक का आवागमन रोक दिया गया। न्यूमेरिक्स में लगाएं

मिनट दर मिनट

9.47 पर विद्या नॉलेज पार्क पहुंचे

10 से 12 बजे तक विद्या नॉलेज पार्क में कार्यक्रम में रहे

1.57 बजे देवलोक कालोनी स्थित सूर्य प्रकाश टौंक के घर पहुंचे

2.24 पर देवलोक कालोनी से टीकरी के लिए रवाना हुए

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप