मेरठ, जेएनएन। Lockdown 4.0 बाजार में दुकान खोलकर साफ-सफाई की मांग को लेकर संयुक्त व्यापार संघ नवीन गुप्ता गुट के चार पदाधिकारियों ने धरना दिया। सुबह 11 बजे से दोपहर एक बजे तक चले धरने में समय समय पर व्यापारियों ने नारेबाजी भी की। अध्यक्ष नवीन गुप्ता ने कहा कि गुरुवार को लॉकडाउन है, अगर मांग पूरी नहीं हुई तो शुक्रवार को फिर से धरने पर बैठेंगे।

मांगों को नजर अंदाज कर रहे

विजय आनंद अग्रवाल, नीरज मित्तल, संदीप रेवड़ी और परविंद्र त्यागी तय समय 11 बजे कलक्ट्रेट स्थित धरना स्थल पर बैठे। समय समय पर अन्य व्यापारी नेताओं का आना जाना लगा रहा। महामंत्री संजय जैन ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी बार बार मांगों को नजर अंदाज कर रहे हैं। पूर्व पार्षद विजय आनंद अग्रवाल ने कहा कि केंद्र मोदी और प्रदेश में योगी सरकार लगातार व्यापारियों की समस्याओं का निराकरण कराने के लिए प्रयासरत है। लेकिन स्थानीय प्रशासन अभी भी सपा और कांग्रेस सरकारों के काल की मानसिकता से ग्रस्त हैं। झूठे आश्वासन देकर व्यापारियों को गुमराह कर रहे हैं। कहा नियम कायदों के साथ कुछ समय के लिए व्यापारिक प्रतिष्ठान खोल कर साफ सफाई की अनुमति प्रदान की जाए। भीषण गर्मी में धरने पर बैठे लोग पसीने से तरबतर रहे। सतीश कुमार जैन, अंकुर गोयल, गणोश अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

नवीन गुप्ता गुट ने कलक्ट्रेट में दिया धरना

रिठानी स्थित कैलाश डेयरी के कार्यालय में संयुक्त व्यापार संघ के अजय गुप्ता गुट के पदाधिकारियों की बैठक हुई। इस दौरान दुकानों की सफाई और बाजार खोलने को लेकर मंथन किया गया। मंगलवार को दुकानों की सफाई के लिए रोस्टर जारी के प्रशासन के आश्वासन के बावजूद कोई निर्णय नहीं हो पाया। संरक्षक बिजेंद्र अग्रवाल, अरुण वशिष्ठ, महामंत्री दलजीत सिंह, उपाध्यक्ष कमल ठाकुर, सुधांशु मौजूद रहे। प्रशासन से इन बिदुओं पर कार्रवाई की मांग की गई।

ये हैं व्यापारियों की मांग

- दुकानों की सफाई का रोस्टर गुरुवार को हर हाल में जारी किया जाए।

- प्रतिष्ठानों के बिजली बिल में फिक्स चार्ज, सरचार्ज माफ हो।

- चरणबद्ध तरीकों से दुकानें और उद्योग खोले जाएं।

- आर्थिक तंगी झेल रहे व्यापार को पटरी पर लाने में सरकार सहयोग करे।

- वसूली के लिए दबाव बना रहे बैंकों के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

पुराने व्यापारी प्रयासरत

65 दिनों से बंद दुकानों को सफाई और बाजारों को नियमित रूप से खुलवाने की मांग लगातार जोर पकड़ रही है। एक मांग को लेकर संयुक्त व्यापार संघ के दोनों धड़े अपने-अपने तरीके से संघर्ष कर रहे हैं। प्रशासन पर दबाव कम और दोनों संगठनों के क्रियाकलापों पर चर्चा अधिक है। आम व्यापारी की आस भी अभी कमजोर ही है। व्यापारियों की संस्था संयुक्त व्यापार संघ अब धड़ों में बंट गई है। नवीन गुट और वशिष्ठ गुट अलग-अलग राहों पर है। इसका परिणाम व्यापारियों की मांग और बात रखने में प्रभाव कम हो गया है। एक करने के लिए पुराने व्यापारी प्रयासरत हैं, लेकिन पहल के लिए एक-दूसरे पर टाल रहे हैं।

कई दौर की वार्ता

पिछले एक सप्ताह से संयुक्त व्यापार संघ के अजय और नवीन गुप्ता गुट दो माह से बंद दुकानों में सामान के नुकसान का मुद्दा उठा रहे हैं। कोटला और सदर बजार की तरह शहर के बाजार खोलने की मांग उठाई जा रही है। प्रशासनिक अफसरों से कई दौर की वार्ता भी हो चुकी है। प्रशासन ने दुकान सफाई का मुद्दा गुरुवार तक के लिए टाल दिया। ऐसे में व्यापारी नेता खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। अब नवीन गुप्ता ने कलक्ट्रेट में धरने का एलान कर दिया। हालांकि अजय गुप्ता गुट ने चुप्पी साध ली और बुधवार को बैठक की। अभी भी असमंजस बना हुआ है।

नवीन मंडी में दुकानें खोलने की मांग

22 दिन से नवीन मंडी में फलों का व्यापार बंद हैं। फल मंडी के आढ़तियों ने बुधवार को बैठक कर प्रशासन से दुकानें खोलने की अनुमति देने की मांग की। आढ़ती सतीश शर्मा ने कहा कि लाखों रुपये का पपीता, सेब और नारियल सड़ गया है। यही नहीं फुटकर विक्रेताओं को दिया गया उधार भी वापस नहीं आया है। व्यापारी भारी नुकसान में है। जसबीर सिंह का कहना है कि अस्थायी मंडी में शेड आदि का इंतजाम न होने के कारण बिक्री संभव नहीं है। इस समय भीषण गर्मी पड़ रही है। खुले में फल रखने से कुछ ही देर में खराब हो जाएंगे। इस संबंध में जिलाधिकारी को भी ज्ञापन दिया गया है।

पदाधिकारियों से विचार विमर्श कर निर्णय लेंगे

दोनो गुटों को एक मंच पर आने की बात पूछने पर संयुक्त व्यापार संघ के अध्यक्ष अजय गुप्ता ने बताया कि सबसे पहले बाजार खोले जाने की मांग 19 मई को हमने की थी। वह (नवीन गुप्ता) कोई पहल करेंगे तो हम सभी पदाधिकारियों से विचार विमर्श कर निर्णय लेंगे। उन्होंने धमकी देने और धरना देने जैसे बातों को गलत बताया। महामंत्री दलजीत सिंह ने तो यहां तक कहा कि भाजपा नेताओं (संजय रेवड़ी, नीरज मित्तल, और विजय आनंद अग्रवाल) को सरकार के खिलाफ खड़ा कर भाजपा में उनकी छवि खराब की है। संयुक्त व्यापार संघ के दूसरे गुट के अध्यक्ष नवीन गुप्ता कहना है उनका सरकार के खिलाफ नहीं स्थानीय प्रशासन के खिलाफ धरना था। बिजेंद्र अग्रवाल और अरुण वशिष्ठ बड़े भाई की तरह हैं। वह बड़प्पन दिखाते हुए बातचीत करें तो व्यापार और व्यापारी हित में हम एक साथ काम के लिए भी तैयार हैं। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस