मेरठ, जेएनएन। मेरठ मेडिकल कालेज के कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों का हालचाल न मिल पाने से उनके तीमारदार परेशान रहते हैं। पिछले कई दिन में कई गंभीर लापरवाही भी सामने आई हैं। ऐसे भी मामले हुए की मरीज की मौत के बाद तीमारदारों को स्वस्थ होने की जानकारी मिलती रही। इन समस्याओं का समाधान मरीज की वीडियो कालिंग से परिजनों से बातचीत है। ये व्यवस्था सोमवार को यहां कर दी गई। कुछ मरीजों की बात भी उनके तीमारदारों से कराई गई। कमिश्नर सुरेंद्र सिंह ने बताया कि कोविड वार्ड में एक मोबाइल फोन उपलब्ध कराया गया है। जहां से मरीजों की उनके परिवारीजनों के साथ दिन में एक बार वीडियो काङ्क्षलग के माध्यम से बात कराई जाएगी। यह सुविधा सोमवार को शुरू भी हो गया। मरीज को सीधे वीडियो काल पर देखकर उनके तीमारदारों को तसल्ली हो गई। उन्होंने बताया कि यह प्रक्रिया रोजाना की होगी, ताकि इस प्रकार की शिकायतों पर विराम लगाया जा सके।

अस्पताल से शिकायत है, कमिश्नर को बताएं

निजी अस्पतालों द्वारा मरीज के इलाज तथा विभिन्न सुविधाओं के नाम पर निर्धारित से अधिक शुल्क लिया जा रहा हो तो, आक्सीजन की कालाबाजारी, अस्पताल द्वारा मरीज के परिवारजनों से आक्सीजन सिलेंडर मांगने, अस्पताल में भर्ती करने के नाम पर अवैध वसूली की जा रही हो, किसी भी अस्पताल द्वारा मरीज की हालत के संबंध में ताजा जानकारी देने में आनाकानी की जा रही हो तो आप इसकी शिकायत कमिश्नर से कर सकते हैं। इसके लिए कमिश्नर कार्यालय में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। यहां पर फोन संख्या 0121-2656878 स्थापित है। जिस पर मिलने वाली शिकायतों पर सीधे जांच कराकर सख्त कार्रवाई कराई जाएगी। कमिश्नर ने बताया कि इसी कंट्रोल रुम से आम जनता को जानकारियां भी दी जाएंगी, जिनमें होम आइसोलेशन में रहने वाले संक्रमित मरीजों को दवा किट तथा अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने, रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता की जानकारी देने तथा इंजेक्शन टोक्लीजुमैब की उपलब्धता के की जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। यह कंट्रोल रूम रोजाना सुबह दस से रात दस बजे तक काम करेगा।