मेरठ, जागरण संवाददाता। जमींदार व उसके साथियों ने मजदूर की बंधक बनाकर पिटाई कर दी। वारदात के बाद आरोपित मजदूर को घायल अवस्था में गांव में छोड़कर फरार हो गए। उपचार के दौरान दो दिन बाद मजदूर की मौत हो गई। स्वजन मुकदमा दर्ज कराने थाने पहुंचे, लेकिन दारोगा ने अभद्रता करते हुए ग्रामीणों को भगा दिया। उन्होंने कार्रवाई की मांग करते हुए शुक्रवार को एसएसपी कार्यालय में हंगामा किया।

यह है मामला 

जानी थाना क्षेत्र के ग्राम खेड़की मुजक्कीपुर निवासी आशा के अनुसार उसके पिता किशन ने गांव जमालपुर के रहने वाले किसान से कर्ज लिया था। जिसकी एवज में किशन उसके के खेत में काम करते थे। परिवार का कहना है कि किशन मिलने वाले मेहनताना से कर्ज उतार चुके थे। उसके बावजूद जमींदार परेशान कर रहा था। आरोप है कि किसान और उसके साथियों ने किशन का अपहरण कर लिया और बंधक बनाकर पिटाई कर दी। 

बेसुध हालत में गांव में छोड़कर हो गए फरार 

आशा ने पिता की गुमशुदगी दर्ज कराई तो दो आरोपित बेसुध हालत में किशन को गांव में छोड़कर फरार हो गए। सोमवार को उपचार के दौरान किशन की मौत हो गई। पुलिस ने परिवार की तहरीर पर शव को मर्चरी भेज दिया। ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस ने अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं किया है। जिस वजह से आरोपित पक्ष समझौते का दबाव बना रहे हैं। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण ने संबंधित थाना प्रभारी को मामले की जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा उन्होंने अभद्रता करने वाले पुलिसकर्मियों की जांच कराकर कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

- - - - - - 

सोती हुई महिला के कुंडल नोचे 

मेरठ, जागरण संवाददाता। गुरुवार रात चोरों ने नंगली के एक मकान में घुसकर सो रही महिला के आभूषण लूट लिए। गांव नंगली निवासी संजीव कुमार ने शुक्रवार को दर्ज कराई रिपोर्ट में बताया कि बीती रात उसकी भाभी सविता पत्नी अमरपाल घर के बरामदे में सोई हुई थी। पास की चारपाई पर उसका बेटा प्रिंस सो रहा था। करीब एक बजे चोर उसके घर में घुसे और सविता के कानों से सोने के कुंडल और एक लोंग नोच ली। जिस पर सविता की चीख निकल गई। चीख सुन जागे प्रिंस ने चोरों का पीछा किया लेकिन पैर में ठोकर लगकर वह गिर गया। और चोर फरार हो गए।

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट