मेरठ, जागरण संवाददाता। Meerut Crime News मेरठ में नील की गली में स्थित ज्वैलरी शोरूम के कारीगर करोड़ों रुपये का सोना और जेवर लेकर फरार हो गए। उनकी आखिरी लोकेशन दिल्ली में मिली है। बाद में दोनों का मोबाइल फोन भी बंद हो गया। तहरीर पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

सारा कामकाज कारीगर ही देख रहे थे

देहली गेट थाना क्षेत्र के पूर्वा महावीर नगर निवासी शफीकुल का नील की गली में हल्दर नाम से ज्वैलरी शोरूम हैं। उन्होंने बताया कि करीब डेढ़ साल पहले कोलकाता निवासी चिरंजीत और देबाशीष निवासी डुबरीभेरी किरचा हुगली पश्चिम बंगाल को काम पर रखा था। सारा कामकाज वही देख रहे थे। बुधवार को जेवर बनाने के लिए उनको काफी सोना दिया था।

दोनों के खिलाफ तहरीर दी

बाजार के अन्य व्यापारियों का भी उनके पास सोना था। कुछ के जेवर भी थे। देर शाम से उनका कहीं पता नहीं चल रहा है। हालांकि बुधवार रात दोनों ने वाट्सएप के जरिये फोन पर बात की थी और किसी रिश्तेदार के यहां जाना बताया था। गुरुवार को लौटने के लिए कहा था, लेकिन आए नहीं। इसके बाद गुरुवार शाम को व्यापारी देहली गेट थाने पहुंचे और दोनों के खिलाफ तहरीर दी।

पुलिस की टीम तलाश में जुटी

सीओ कोतवाली अरविंद चौरसिया ने बताया कि तहरीर पर चिरंजीत और देवाशीष के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। उनकी तलाश में टीम जुटी हुई है। जल्द ही दोनों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। वहीं, व्यापारी के बेटे शाहिद का कहना है कि मैनेजर और कर्मचारी के बारे में जानकारी देने वाले को उचित इनाम दिया जाएगा।

नील गली में ही रहते थे

पीड़ितों ने बताया कि दोनों ही नील की गली में रहते थे। बुधवार रात को भी उन्होंने वाट्सएप पर बात की थी। इसके बाद से उनके बारे में पता नहीं चल रहा है। थाना प्रभारी का कहना है कि सराफ ने दोनों का ही वेरिफिकेशन नहीं कराया था। फरार आरोपितों के बारे में बाजार के अन्य कर्मचारियों से जानकारी की जा रही है। कुछ महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। जल्द ही उनको पकड़ लिया जाएगा। 

Edited By: PREM DUTT BHATT

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट