मेरठ, जेएनएन। मेरठ में कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर ब्रेक लगा है। सोमवार को 5100 सैंपलों की जांच में 447 मरीज मिले। जिले में 19 मरीजों की कोरोना से मौत हुई है। प्रशासन ने मौत के आंकड़ों को लेकर स्वास्थ्य विभाग को आगाह किया है। लंबे समय बाद मेरठ में संक्रमितों की संख्या 500 के नीचे आयी है। मई के 17 दिनों में यह पहली बार है। सीएमओ डा. अखिलेश मोहन ने बताया कि 1851 मरीजों को विभिन्न केंद्रों में भर्ती कराया गया है। सक्रिय मरीजों की संख्या 16466 तक रह गई है। वहीं 1483 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया।

एक्टिव मरीज

अस्पताल में भर्ती: 1851

होम आइसोलेशेन में: 6180

डिस्चार्ज होम आइसोलेट: 8435

मेडिकल कालेज में 117 बेड खाली

मेरठ: 400 बेडों वाले मेडिकल कालेज में 117 बेड खाली हैं। प्राचार्य डा. ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि मरीजों की संख्या लगातार कम हो रही है। हालांकि 12 मरीजों की मौत ने चिंता जरूर बढ़ाया है। कोविड वार्ड में मरीजों की कुल संख्या 258 रह गई है। बिना आक्सीजन वाले आइसोलेशन बेडों में 80 में से 57 रिक्त हैं। आक्सीजनयुक्त 180 बेडों वाले वार्ड में 60 खाली हैं, वहीं आइसीयू एवं एचडीयू यूनिट के सभी 65 बेडों पर मरीज हैं। 25 में से 24 वेंटिलेटर खाली हैं।

तीसरी लहर से निपटने को मेडिकल में होंगे 500 बेड

ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमितों के इलाज तथा कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारियां जोरशोर से जारी हैं। इन्हीं के तहत जहां मेडिकल कालेज में कोविड बेड की संख्या को बढ़ाकर 500 करने का काम शुरू कर दिया गया है वहीं बच्चों के लिए 50 बेड का आइसीयू एलजी कंपनी की मदद से बनवाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। गर्भवती महिलाओं और ब्लैक फंगस के रोगियों के लिए अलग वार्ड बना दिया गया है। जबकि मेरठ मंडल के छह जनपदों के ग्रामीण क्षेत्र की सीएचसी, पीएचसी में सोमवार शाम तक कोविड मरीजों के इलाज के लिए 623 बेड उपलब्ध करा दिए गए थे।

कोविड बेड की व्यवस्था

कमिश्नर सुरेंद्र सिंह ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में कोविड मरीजों का इलाज शुरू कराने के लिए सामुदायिक और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर ही कोविड बेड की व्यवस्था की जा रही है। सोमवार शाम तक मंडल में कुल 623 बेड उपलब्ध करा दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि मेरठ में 205, हापुड़ में 60, बुलंदशहर में 138, बागपत में 60, गाजियाबाद में 60 तथा गौतमबुद्धनगर में 100 बेड की व्यवस्था की गई है। ये सभी आक्सीजन सुविधा से युक्त हैं। जिलाधिकारी के बालाजी ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर का मुकाबला करने के लिए मेडिकल कालेज में अभी से तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। यहां कोविड बेड की क्षमता को बढ़ाकर 500 कराया जा रहा है। जिसके लिए काम शुरू हो गया है। बच्चों के लिए एलजी कंपनी की मदद से 50 बेड का आइसीयू तैयार कराया जाएगा। कंपनी ने इसके लिए जानकारियां मांग ली हैं। मेडिकल कालेज में महिलाओं और गर्भवती के लिए अलग वार्ड स्थापित कर दिया गया है। ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए भी अलग वार्ड तैयार कर दिया गया है।

ग्रामीण क्षेत्रों में बेड की सुविधा

जनपद का नाम बेड संख्या

मेरठ 205

हापुड़ 60

बुलंदशहर 138

बागपत 60

गाजियाबाद 60

गौतमबुद्धनगर 100

कुल 623

मेरठ में कहां कितने बेड

केंद्र का नाम बेड संख्या

धनसिंह कोतवाल 150

दौराला सीएचसी 05

सरधना सीएचसी 10

मवाना सीएचसी 10

किठौर सीएचसी 30

कुल 205

Edited By: Prem Dutt Bhatt