जागरण संवाददाता, मेरठ। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय और उससे जुड़े कालेजों में 31 जुलाई से एलएलबी और एलएलएम की आफलाइन और आनलाइन परीक्षा शुरू हो रही है। पहली बार आनलाइन परीक्षा हो रही है। जिसमें छात्र-छात्रएं अपने घर से परीक्षा दे सकेंगे। आनलाइन परीक्षा देने वालों पर आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस, आनलाइन परीक्षा कराने वाली एजेंसी और विश्वविद्यालय के पर्यवेक्षकों की पूरी निगरानी रहेगी। इसमें किसी भी गड़बड़ी पर छात्र को यूएफएम यानी अनफेयर मींस में डाल दिया जाएगा।

31 जुलाई से एलएलबी चौथे और छठे सेमेस्टर की परीक्षा शुरू हो रही है। परीक्षा सुबह 10 से 11.30 बजे तक चलेगी। एलएलबी और एलएलएम प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा एक अगस्त से है। परीक्षा का कार्यक्रम वेबसाइट पर भी अपलोड किया गया है। विधि की आनलाइन परीक्षा को लेकर गुरुवार को कंपनी के साथ विवि की बैठक हुई। इसमें आनलाइन परीक्षा को लेकर चर्चा की गई। आनलाइन परीक्षा पर निगरानी के लिए डा. अंजलि मित्तल को नोडल आफिसर बनाया गया है। उनके साथ पांच अन्य सदस्य रहेंगे।

कम होंगे आनलाइन परीक्षा देने वाले: आनलाइन परीक्षा के लिए 3800 छात्रों ने मॉक टेस्ट दिया था। इसमें से बहुत से छात्रों की टाइ¨पग स्पीड नहीं है। ऐसे में मॉक टेस्ट देने वाले बहुत से छात्र आफलाइन परीक्षा दे सकते हैं। एलएलबी और एलएलएम में करीब 35 हजार छात्र-छात्रएं आफलाइन परीक्षा देंगे। विवि ने सभी छात्रों का एडमिट कार्ड जारी किया है। उनके सेंटर भी तय कर दिए गए हैं।

डेढ़ घंटे बंद कमरे में परीक्षा: आनलाइन परीक्षा के समय छात्र अपने पास केवल कंप्यूटर या लैपटाप रखेंगे। मोबाइल रखने की अनुमति नहीं होगी। पावर बैंक की भी व्यवस्था रख सकते हैं। वाई फाई से इंटरनेट कनेक्ट करेंगे। परीक्षा शुरू होने से परीक्षा खत्म होने तक करीब डेढ़ घंटे तक कंप्यूटर के सामने वेब कैमरा आन करके बैठना होगा। इस दौरान उनके कमरे में किसी भी व्यक्ति को आने की अनुमति नहीं रहेगी। विवि की ओर से ईमेल के माध्यम से छात्रों के कमरे की लोकेशन भी दिखाने के लिए कहा जाएगा।

Edited By: Himanshu Dwivedi