मेरठ, जागरण संवाददाता। दारोगा भर्ती में साल्वर गैंग के सरगना अमित विश्नोई ने देश में अपना नेटवर्क खड़ा कर रखा है। हर प्रदेश में अलग-अलग रेट फिक्स कर रखे हैं। साल्वर के खातों में बिहार से आनलाइन रकम ट्रांसफर की जाती है। पुलिस जांच में सामने आया कि उसके पास 50 से भी ज्यादा साल्वर हैं। वह दारोगा भर्ती के अलावा अन्य परीक्षाओं में भी साल्वर बैठाता रहा है।

यह है मामला

रविवार को उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा की तृतीय पाली में आइटीएम कालेज पांचली के गेट पर परीक्षार्थी मानवेंद्र सिंह (निवासी कोटकी फिरोजाबाद) के स्थान पर साल्वर गैंग का शातिर आशुतोषमणि त्रिपाठी (निवासी देवरिया) परीक्षा देने आया था। पुलिस ने आशुतोष के साथ-साथ कालेज के बाहर बैठे साहिर खान (निवासी बुलंशहर) को पकड़ा था। दोनों से पूछताछ में पता चला कि उनके गैंग का सरगना पटना सचिवालय में काम करने वाला अमित विश्नोई है, जो परीक्षा उत्तीर्ण कराने के लिए आठ लाख रुपये लेता है। मानवेंद्र सिंह से भी आठ लाख रुपये में सौदा हुआ था।

पटना जाएगी पुलिस टीम

एएसपी अनित कुमार ने बताया कि अमित की धरपकड़ के लिए जल्द ही पुलिस की एक टीम पटना भेजी जाएगी। अमित ने पूरे देश में अपना नेटवर्क खड़ा कर 50 से ज्यादा साल्वर को जोड़ रखा है। अमित विश्नोई की रिपोर्ट पुलिस ने शासन को भेज दी है, ताकि इस पर एसटीएफ और अन्य एजेंसी काम कर सकें।

दारोगा भर्ती पर एसटीएफ की नजर

साल्वर गैंग की धरपकड़ के बाद दारोगा भर्ती पर एसटीएफ ने नजर गड़ा दी है। सभी सेंटरों पर गोपनीय तरीके से जानकारी जुटाई जा रही है, ताकि साल्वर गैंग के सदस्यों को पकड़ा जा सके। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया कि स्थानीय पुलिस और एसटीएफ की टीम साल्वर गैंग पर काम कर रही है। जल्द ही इस गैंग में शामिल अन्य आरोपितों को पकड़ा जाएगा।

Edited By: Parveen Vashishta