मेरठ : मवाना रोड पर बुधवार को एमडीए ने तलवार पेट्रोल पंप के पास करीब 10 हजार स्क्वायर फुट की जमीन को कब्जामुक्त करा लिया। उक्त भूमि पर वर्षों से सैकड़ों परिवार झोपड़ी डालकर बसे हुए थे। कार्रवाई के दौरान महिलाओं व बच्चों ने चीखते चिल्लाते हुए पुलिस व एमडीए अफसरों को खरी-खोटी सुनाई। करीब तीन घंटे चली कार्रवाई में भूमि को कब्जामुक्त करा लिया गया।

नायब तहसीलदार उदयवीर ¨सह, एमडीए के अधिशासी अभियंता व रक्षापुरम योजना प्रभारी राजीव कुमार ¨सह के नेतृत्व में बुधवार सुबह अफसरों की टीम बुलडोजर लेकर तलवार पेट्रोल पंप के पास पहुंची। सीओ सदर देहात जितेन्द्र कुमार सरगम के नेतृत्व में पुलिस टीम ने लाठी-डंडों के साथ मवाना रोड किनारे बसी सैकड़ों झोपडि़यों को घेर लिया। बल्ली व तिरपाल के सहारे वर्षों बनाई गई झोपडि़यों को बुलडोजर ने एक-एक करके तहस-नहस करना शुरू कर दिया। इस पर महिलाओं व बच्चों ने हंगामा कर दिया। करीब तीन घंटे चली कार्रवाई में तलवार पेट्रोल पंप से लेकर कसेरू बक्सर टेंपो स्टैंड तक सैकड़ों झोपड़ियों के अलावा खोखे, ठेले, रूई व जूस की दुकान समेत अस्थायी कब्जों को तहस-नहस कर दिया। कुछ महिलाओं ने अपनी झोपड़ी को टूटते हुए देखकर अफसरों के सामने हाथ जोड़कर गुहार लगाई, लेकिन कार्रवाई जारी रही।

करोड़ों की है व्यावसायिक जमीन

इस भूमि पर 12 व्यावसायिक प्लॉट व आगे-पीछे चार पार्क एमडीए के मानचित्र में प्रस्तावित हैं। इस जमीन की कीमत करोड़ों में है।

साहब, हमारा तो आशियाना उजड़ गया

महिलाओं ने रोते हुए गुहार लगाई कि उनका आशियाना उजड़ गया है। अब वे खुले आसमान के नीचे गुजर-बसर करने के लिए मजबूर होंगे। वे इस स्थिति में कहां जाएं।

Posted By: Jagran