शामली, जागरण संवाददाता। SP MLA Nahid Hasan arrested समाजवादी पार्टी के विधायक नाहिद हसन ने गिरफ्तारी के बाद जेल जाते समय कहा कि सच्चाई किसी से छिपी नहीं हैं। वे फर्जी मुकदमों पर योगी की तरह रोने वाले नहीं हैं। डटकर हालात का सामना करेंगे।

इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ बयान

शनिवार की दोपहर लगभग दो बजे नाहिद हसन की गिरफ्तारी से पूर्व विधायक का एक वीडियो भी इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें विधायक कह रहे हैं कि भाजपा की ओर से लगाए गए फर्जी मुकदमों के कारण मैं आप लोगों के बीच में नहीं हूं। चुनाव सिर पर है। मेरे ऊपर जो केस चल रहे हैं, उसको देखते हुए मेरा पर्चा कैंसिल करने की नौबत आ गई थी। हालांकि, इस वीडियो में विधायक यह भी कह रहे हैं कि मुकदमे के कारण ही सरेंडर करना पड़ रहा है। मेरे व मेरी माताजी के ऊपर फर्जी मुकदमे लगाए गए हैं। वह कह रहे हैं कि भाजपा के लोग नोमिनेशन में परेशानी खड़ी कर रहे थे। आगे कहा कि आप लोगों की लड़ाई पहले भी लड़ते रहे हैं और आगे भी लड़ते रहेंगे। जल्द ही आप लोगों के बीच में रहूंगा। चुनाव में हमारा बदला लेने का समय है। आप सभी को मुनव्वर हसन व नाहिद हसन बनना पड़ेगा। उधर, न्यायालय से जेल जाते वक्त नाहिद के समर्थकों ने नारेबाजी भी की।

दूसरी बार विधायक हैं नाहिद हसन

कैराना विधानसभा सीट पर नाहिद हसन लगातार दूसरी बार विधायक हैं। सपा के टिकट पर वह दोनों चुनाव जीते। इस बार फिर गठबंधन से समाजवादी पार्टी ने उन्हें प्रत्याशी बनाया है।

नाहिद हसन पूर्व में भी जा चुके हैं जेल

नाहिद हसन का विवादों से पुराना रिश्ता रहा है। 24 जनवरी 2020 को भी विधायक जमीन की खरीद-फरोख्त में धोखाधड़ी के आरोप में दर्ज मुकदमे में कोर्ट में पेश हुए थे तथा उन्हें जेल भेजा गया था। 20 दिन बाद विधायक की जेल से रिहाई हो गई थी। इसके बाद फिर से वह कैराना कोतवाली में कोतवाली प्रभारी से उलझ गए थे और उनके विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया था। कोतवाली प्रभारी ने उन पर गैंगस्टर एक्ट की कार्रवाई की थी।

यह है मामला

पिछले वर्ष फरवरी में सपा विधायक नाहिद हसन व उनकी मां पूर्व सांसद तबस्सुम हसन सहित 40 आरोपितों के खिलाफ कोतवाली में गैंगस्टर एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। इस मामले में लगभग तीन दर्जन आरोपितों ने कोतवाली में आत्मसमर्पण कर दिया था। पूर्व सांसद तबस्सुम हसन को कोर्ट से पूर्व में एंटीसिपेटरी बेल मिली है जबकि विधायक इस मामले में वांछित थे।  

Edited By: Parveen Vashishta