मेरठ। दैनिक जागरण के विशेष सफाई अभियान ने गुरुवार को मुल्तान नगर की दशा सुधार दी। यहां बागपत रोड के नाले साफ हो गये तथा कूड़ा उठा दिया गया। अंदर मोहल्ले की गलियां भी सफाई से चमक गईं। महापौर सुनीता वर्मा तथा अपर नगर आयुक्त अलीहसन कर्नी ने पूरे क्षेत्र का निरीक्षण किया तथा मुल्ताननगर से सटी पुष्प विहार कालोनी की बदहाली दूर कराने का आश्वासन दिया।

बागपत रोड पर मोहल्ला मुल्ताननगर निगम के वार्ड 15 का भाग है। यहां सफाई न होने, कूड़ा न उठाने, नाला सफाई न होने समेत तमाम समस्याएं थी। गुरुवार को दैनिक जागरण ने यहां अपना विशेष सफाई अभियान 'स्वच्छ मेरठ, स्वस्थ मेरठ' चलाया। सफाई निरीक्षक नीरज सिंह के निर्देशन में तथा सफाई नायक संजीव शर्मा के नेतृत्व में सफाई कर्मियों की टीम दिन निकलते ही यहां सफाई अभियान में जुट गई। गलियों और नालियों की सफाई करके कूड़ा साफ कर दिया गया। बागपत रोड के नाले की पोर्कलेन मशीन ने सफाई की। जेसीबी ने वहां लगे कूड़े के ढेर को उठा लिया। कर्मचारियों ने झाड़ू चलाई तो पूरा क्षेत्र चमक उठा। जिसे देखकर क्षेत्रीय लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। महापौर सुनीता वर्मा और अपर नगर आयुक्त अलीहसन कर्नी ने सफाई अभियान का निरीक्षण किया। दोनों ने मुल्ताननगर से सटी पुष्प विहार कालोनी के हालात भी देखे। यहां नाले नालियां पानी से लबालब भरे थे। जलभराव के चलते यहां नई सड़क बैठ गई। सड़कों पर तालाब बना था। सड़क टूट भी गई। महिलाओं ने समस्याओं के समाधान की मांग की। उन्होंने आश्वासन दिया।

मुल्ताननगर और पुष्प विहार की समस्याएं

- सफाई कर्मियों की संख्या कम होने के कारण नियमित सफाई नहीं होती।

- सड़कों और नाले नालियों में कूड़ा भरा रहता है। कूड़े के ढेर लगे रहते हैं।

- मुल्ताननगर में कुछ सड़कें निर्माणाधीन हैं। जिससे वहां लोगों को निकलना मुश्किल हो रहा है।

- पुष्प विहार कालोनी में नये नाले का बहाव उल्टा है। लिहाजा पानी नहीं निकल पाता।

- गंदा पानी सड़कों पर भरा रहता है। जिससे नई सड़क टूट गई है। सड़क पर गंदे पानी का तालाब बन गया है।

- हैंडपंप अधिकांश खराब हैं।

- स्ट्रीट लाइटें भी बंद हो गई हैं।

- गंदगी के चलते मच्छरों की भरमार है।

बोली जनता, साहब! हमने मकान तो बना लिये, रहने के हालात नहीं हैं

- मुल्तान नगर मोहल्ला पुराना है। यहां हल्की सी बारिश में ही जलभराव हो जाता है। पानी घरों में भीतर घुस जाता है। लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो सका है।

रविंद्र कुमार - मुल्ताननगर में सफाई कर्मियों की संख्या काफी कम है। जिसके चलते नियमित सफाई नहीं होती और कूड़ा नहीं उठ पाता है।

अशोक - पुष्प विहार कालोनी में पानी की निकासी नहीं होती है। बरसात तो छोड़ों सामान्य दिनों में भी नाले नालियों का पानी सड़कों पर फैला रहता है। हमने जीवन भर की कमाई लगाकर मकान बना लिया लेकिन यहां रहने के हालात ही नहीं हैं।

कमलेश - नाले का पानी सड़कों पर भरा रहता है जिससे सड़कें टूट गई हैं। सड़कों पर तालाब बना है। नाले नालियां लबालब हैं। इसका एक कारण बागपत रोड पर नालों के ऊपर कब्जा होने के कारण नालों की सफाई न हो पाना भी है।

शांति प्रकाश - मोहल्ले में स्ट्रीट लाइटें खराब हैं। हाल ही में नई एलईडी लाइटें लगी थी लेकिन वे भी बंद हैं। हैंडपंप इक्का दुक्का हैं वे भी खराब रहते हैं।

स्नेहलता - हल्की बारिश होते ही सड़कों पर पर कई फीट ऊंचा पानी भर जाता है। बच्चों को स्कूल जाना बंद हो जाता है। लोगों का घरों से निकल पाना दूभर हो जाता है। इन्होंने कहा--

मुल्ताननगर में तो सफाई के बाद हालात बदले हैं लेकिन पुष्प विहार व अन्य मोहल्लों में मलिन बस्ती के से हालात हैं। यहां जल निकासी के लिये सर्वे कराकर काम कराना होगा। निगम अफसरों को निर्देशित कर दिया गया है। जल्द योजना तैयार होगी।

सुनीता वर्मा, महापौर

पुष्प विहार के हालात चिंताजनक हैं। यह क्षेत्र मलिन बस्ती में शामिल है। डूडा से इसकी योजना बनाई गई है लेकिन काम नहीं हो पा रहा है। लोगों की परेशानी ज्यादा है। बरसात में समस्या और बढ़ेगी। इस क्षेत्र के लिए प्राथमिकता पर काम कराया जाएगा।

अलीहसन कर्नी, अपर नगर आयुक्त

सफाई कर्मचारी बढ़ाने की मांग की गई है। आज दैनिक जागरण के अभियान से काफी राहत मिली है। पुष्प विहार व अन्य मोहल्लों की समस्याओं को मलिन बस्ती के तहत सुधारा जाना है। लेकिन डूडा के अधिकारी गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं।

कुलदीप कुमार, पार्षद

Posted By: Jagran