मेरठ, जेएनएन। किसान से आलू की बोरी छीनने के मामले में ब्रह्रमपुरी इंस्पेक्टर पर गाज गिर गई। कप्तान ने उनको हटाकर कोरोना वायरस सेल का प्रभारी बनाया है, जबकि साइबर सेल के प्रभारी को थाने का चार्ज दिया है। वहीं, इस मामले में रात ही एसएसपी ने आरोपित दारोगा को निलंबित कर दिया था। दूसरी ओर चर्चा है कि एक विधायक इंस्पेक्टर को बचाने का प्रयास कर रहे थे।

यह था पूरा मामला

बुधवार शाम परीक्षितगढ़ थाना क्षेत्र के गांव बहरामपुर निवासी नितिन चौधरी दोस्त के साथ ट्रैक्टर-ट्रॉली में आलू भरकर नवीन मंडी आ रहे थे। शारदा रोड पर पुलिस चेक पोस्ट के पास ब्रह्रमपुरी थाने के दारोगा श्याम सिंह ने उनको रोक लिया था। आरोप है कि उनसे आलू की तीन बोरी छीन लिए थे। शिकायत पर कप्तान अजय साहनी ने एसपी सिटी डा. अखिलेश नारायण सिंह को जांच सौंपी थी। रात में ही दारोगा को निलंबित कर दिया था। साथ ही इंस्पेक्टर और चार सिपाहियों की भी रिपोर्ट देने के लिए कहा था।

कोरोना वायरस सेल का प्रभारी बनाया

गुरुवार दोपहर को एसएसपी ने थाना प्रभारी रघुराज सिंह को हटाकर कोरोना वायरस सेल का प्रभारी बना दिया, जबकि उनकी जगह साइबर सेल के प्रभारी सुभाष अत्री को चार्ज सौंपा है। गौरतलब है कि करीब सात माह पहले परतापुर थाना क्षेत्र में तेल का खेल उजागर हुआ था। पूरे प्रदेश में मामला चर्चा में आ गया था। कई लोग जेल भी गए थे। इस मामले की जांच लखनऊ की एसआइटी कर रही है। तब सुभाष अत्री परतापुर थाना प्रभारी थे। तेल के खेल में ही उनको हटाया गया था।

एक विधायक सिफारिश में लगे थे

बताया गया कि इंस्पेक्टर पर हुई कार्रवाई को रोकने के लिए एक विधायक लगे हुए थे। उन्होंने इस संबंध में कप्तान को कई बार फोन भी किया था, लेकिन संवेदनशील माहौल के चलते थाना प्रभारी पर गाज गिर ही गई। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस