मेरठ। कांवड़ यात्रा के आखिरी दिन की बुधवार रात को मोदीपुरम हाईवे पर भीषण जाम लग गया। जाम का आलम यह रहा कि मोदीपुरम से दौराला और दूसरी तरफ रुड़की रोड व हाईवे पर कंकरखेड़ा की सरधना रोड पर जाम लगा हुआ था। जाम को देख पुलिस के भी पसीने छूट गए। विशाल कांवड़, झांकी और बड़े-बड़े डीजे लगी गाड़ियों को देखने के लिए आसपास के क्षेत्रवासी और ग्रामीण भारी संख्या में हाईवे पर उतर गए, जिनके कारण जाम लग गया। हाईवे की दोनों लेन और दोनों सर्विस रोड पर जाम लगा हुआ था। एका-एक झांकी की कांवड़ एक जगह पर करीब पांच मिनट तक रुकती, जिसकी वजह से उसके पीछे वाहनों की कतार लग जाती।

गुरुवार को पावन शिवरात्रि का त्यौहार है। सुबह से ही शिवालयों में कांवड़िये और धर्मप्रेमी पवित्र गंगाजल से भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक करेंगे। गुरुवार रात में और बुधवार दिन में जो बड़ी कांवड़ व पैदल आने वाले कांवड़िये जहां-जहां विश्राम के लिए रुके थे, वह शाम को अपने गंतव्य की ओर बढ़ चले। एकाएक कांवड़ियों की संख्या तीन गुना हो गई। वहीं कांवड़ को देखने के लिए गांव दुल्हैड़ा, पल्हैड़ा, मटौर, सिवाया, दौराला, भराला, धंजू, सोफीपुर, मोदीपुरम, पल्लवपुरम, हाईवे की कालोनियों के लोग सड़क पर परिजनों संग मौजूद थे। जाम से बचने के लिए हाईवे पर कोई भी सड़क ऐसी नहीं थी, जहां से राहगीर निकल सके। पल्हैड़ा और पल्लवपुरम फेज-वन के कट पर पुलिस तैनात थी, मगर वह भीड़ के आगे बौनी साबित हो रही थी। कई दिनों से यातायात की जो व्यवस्था दुरूस्त बनी हुई थी, वह व्यवस्था बुधवार रात को दूर तक दिखाई भी नहीं दी।

डीजे की कांवड़ों में हो रहे थे मुकाबले

कांवड़ में विशाल डीजे लगे होते हैं, जिनकी तेज आवाज और उसकी बेस का डीजे संचालक आपस में ही हाईवे पर खड़े कर मुकाबला करते हैं। डीजे के बेस अधिक होने और गानों की आवाज से लोगों को परेशानी हो रही थी। दो दिन पहले तो दो डीजे वालों में मारपीट भी हुई थी। हरिद्वार से मेरठ आने वाले कांवड़ियों की संख्या बुधवार को अधिक रही। वहीं झांकी और विशाल कांवड़ों को देखने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी थी। पुलिस तैनात है, जाम नहीं लगने दिया जाएगा।

- रणविजय ¨सह, एसपी सिटी।

Posted By: Jagran