मेरठ, जेएनएन। शासन कोरोना टीकाकरण पर जोर दे रहा है। इसके लिए सरकारी विभागों में तैनात अधिकारी व कर्मचारियों को बाकायदा टीकाकरण में तेजी लाने को विशेष रूप से निर्देशित किया गया है। लेकिन तमाम विभाग अब भी ऐसे हैं, जहां 20 से 30 प्रतिशत स्टाफ ने टीकाकरण नहीं कराया है। कुछ ऐसे हैं जिन्होंने एक ही टीका लगवाया है, वहीं कुछ ने अभी तक एक भी टीका नहीं लगवाया है।

कोरोना संक्रमण को लेकर हर स्तर पर सतर्कता बरती जा रही है और आए दिन दिशा-निर्देश भी जारी किए जा रहे हैं। अब विधानसभा चुनाव की तैयारियां भी शुरू हो चुकी हैं और तमाम विभागों को जिम्मेदारी भी दी जा रही है। पंचायत चुनाव में कई अधिकारी व कर्मचारी संक्रमण की चपेट में आ गए थे और 35 की मौत भी हो गई थी। ऐसे में विधानसभा चुनाव संपन्न कराने के लिए सभी विभागों को कोरोना टीकाकरण को लेकर सूचना जिला प्रशासन ने मांगी है। विभागों द्वारा उपलब्ध कराई गई सूचना में अब भी तमाम विभागों में 20 से 30 प्रतिशत सरकारी अधिकारी व कर्मचारियों ने पूर्ण टीकाकरण नहीं कराया है।

इन विभागों ने दिखाई सतर्कता

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग, पुलिस, नगर निगम, नगर पालिका, होमगार्ड, मत्स्य, कृषि विभाग, अल्पसंख्यक कल्याण, दिव्यांगजन विभाग, जिला पंचायतराज विभाग आदि के लगभग सभी अधिकारी व कर्मचारियों ने टीकाकरण कराया हुआ है।

टीकाकरण में पीछे विभाग

बीएसएनएल, ऊर्जा निगम, शिक्षा विभाग, ग्रामीण अभियंत्रण, लोक निर्माण विभाग, सिंचाई विभाग, वन विभाग, रोडवेज, जिला पंचायत, बैंक आदि विभागों के अधिकारी व कर्मचारी टीकाकरण में पीछे हैं।

कोरोना का टीकाकरण न कराने वाले कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है। चुनाव की तैयारियों में ड्यूटी लगाने से पहले सभी को टीकाकरण कराना होगा।

शशांक चौधरी, सीडीओ

Edited By: Jagran