जागरण संवाददाता, मेरठ : पापा मैं जा रही हूं ..मुझे अपनी जान से प्यारी आपकी इज्जत है। मेरे साथ चार युवक छेड़छाड़ करते थे। उन्होंने दुष्कर्म का भी प्रयास किया था। हो सके तो इन लड़कों को सजा दिला देना। ताकि वह किसी दूसरी लड़की के साथ ऐसा न करें। किशोरी ने मेडिकल में अपने मम्मी-पापा और भाई के सामने ये बयान दिए। मां ने भी पुलिस को दी तहरीर में कहा है कि उसकी बेटी ने अपने परिवार की इज्जत की खातिर जान दी है, इसलिए आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले।

ाठवीं की छात्रा के उक्त बयान के बाद पुलिस हरकत में आई और आरोपियों के घरों पर दबिश दी, लेकिन आरोपी नहीं पकड़े गए। छात्रा की मां ने बताया कि उसकी बेटी को काफी समय से चारों युवक परेशान कर रहे थे, लेकिन वह अपने पापा की इज्जत की खातिर चुप थी। उसने परिवार के किसी भी सदस्य को छेड़छाड़ के बारे में नहीं बताया।

छात्रा की पूरा गांव कर रहा तारीफ

ग्रामीणों का छात्रा के बारे में कहना है कि वह पढ़ने में होशियार और सीधी थी। जब भी वह अपने घर से पढ़ने के लिए निकलती थी तो उसका सिर हमेशा झुका रहता था। मौत की खबर सुनकर किशोरी ग्रामीणों का तांता लग गया।

काश, मुझे बता देती तो पुलिस के पास जाता

पिता व चाचा का छात्रा की मौत के बाद रो-रोकर बुरा हाल है। चाचा का कहना है कि उसने अपने पिता को कुछ नहीं बताया। कम से कम मुझे तो बता देती। मैं पुलिस के पास जाता और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई कराता। चाचा ने कहा कि यदि वह बता देती तो कम से कम जिंदा तो होती।

इन्होंने कहा-

मेरा भाई गांव में ठेला लगाकर समोसे बेचता है। उसे दो बेटी और दो बेटे हैं। मेरी जिस भतीजी की मौत हुई है, उसकी पूरा गांव तारीफ करता है। हमारे साथ बहुत बुरा हुआ है।

- मृतक छात्रा के चाचा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस