मेरठ, जेएनएन : छावनी के वार्ड पांच वामन भगवान मंदिर से सोमवार को सुबह साढ़े आठ बजे सफाई अभियान शुरू किया गया। इसमें गंज बाजार (चंद्रगुप्त पुरी) में कैंट बोर्ड की टीम ने सफाई की। मंदिर के आसपास नाले में जमी सिल्ट की सफाई की गई। गंज बाजार मोहल्ले में कर्मचारियों ने झाड़ू लगाई। जगह-जगह कूड़े को एकत्रित कर गाड़ियों में भरा गया। कुछ लोगों की शिकायत थी कि जवाहर गली में सफाई नहीं होती है। सफाई कर्मचारियों ने वहां भी सफाई की। नालियों की सिल्ट होने की वजह से पानी का बहाव नहीं हो रहा था। उसे भी कर्मचारियों ने साफ किया।

गंज बाजार में खत्ते की जगह पार्क तो बना दिया गया, लेकिन उसके आसपास गंदगी फैली हुई थी। पार्क के किनारे नालियों की भी सफाई हुई। सड़क और घरों के सामने झाड़ू लगाकर कूड़ा उठाया गया, फिर चूने का छिड़काव किया गया। गंज बाजार में स्थानीय लोगों ने खत्ते की जगह पार्क बनने की सराहना की, लेकिन उसकी देखरेख न होने की शिकायत भी दर्ज की। कैंट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल ने मोहल्ले का निरीक्षण किया। सीईओ प्रसाद चव्हाण ने भी पूरे क्षेत्र का निरीक्षण कर लोगों की समस्या सुनीं। सीईओ ने पार्क और आसपास की साफ-सफाई को लेकर निर्देश भी दिए। वार्ड के सदस्य अनिल जैन ने बताया कि खत्ते की जगह पार्क बनने से काफी हद तक गंदगी दूर हो गई। कैंट बोर्ड सफाई अधीक्षक वीके त्यागी, अभिषेक सहित अन्य छावनी के कर्मचारी रहे।

गड्ढों को ठीक करने का आश्वासन

स्थानीय लोगों ने नालों में सिल्ट जमे रहने के साथ सड़कों पर जगह-जगह गड्ढों को लेकर भी शिकायत की। लोगों ने कैंट विधायक को भी दिखाया। इस पर कैंट विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल ने आश्वस्त किया कि वह कैंट बोर्ड के साथ मिलकर सभी गड्ढों को ठीक कराएंगे।

अभी सीवर लाइन नहीं

गंज बाजार, सदर में अभी सीवर लाइन डालने का काम चल रहा है। पहले से जो नाले हैं, उसका कुछ हिस्सा आबू नाले में गिरता है, तो कुछ हिस्सा प्लाजा निगम क्षेत्र में जाता है। बारिश होने पर नाले का पानी वापस होकर लोगों के घरों में प्रवेश कर जाता है। नाले में सिल्ट की भी पूरी सफाई नहीं होती है।

ये दिखी समस्याएं-

- वार्ड के नाले की नियमित सफाई नहीं होना।

- सीवर लाइन न होने की वजह से बारिश होने पर पानी भर जाता है।

- ओडीएफ घोषित होने के बाद भी नालियों के किनारे गंदगी।

- बाजार की सभी गाड़ियों के आने से जल्दी खराब होती हैं सड़कें ।

कैंट बोर्ड के अधिकारियों के दावे

- वार्ड में डाली जा रही है सीवर लाइन।

- नालों से नियमित सफाई होगी।

- बजट का प्रबंध होने के बाद गड्ढे भरे जाएंगे।

- वार्ड में दिन में दो बार सफाई। नालों पर गंदगी फैलाने वालों रखेंगे।

इनका कहना है..

वार्ड में निरीक्षण के दौरान कुछ लोगों ने सड़क में गड्ढों की वजह से समस्या बताई है। कैंट बोर्ड के पास बजट का अभाव बताया गया है। कैंट विधायक होने की वजह से इसमें जितना होगा सहयोग करूंगा। लोग कूड़े को इधर- उधर से फेंकने से बचें।

सत्यप्रकाश अग्रवाल, कैंट विधायक

वार्ड से कई खत्ते खत्म कर दिए। नालों में सिल्ट और जलभराव की समस्या है। नियमित सफाई की जाएगी। सीवर लाइन वार्ड से होकर बिछाई जा रही है। भैंसाली ग्राउंड में सीवर ट्रीटमेंट प्लांट भी बन रहा है। इससे नालों में जल निकासी की समस्या दूर हो जाएगी।

प्रसाद चव्हाण, सीईओ, कैंट बोर्ड

स्थानीय लोग बोले

खत्ता हटकर पार्क बनने से गंजबाजार में सफाई की व्यवस्था सुधरी है, लेकिन पार्क का अभी रखरखाव नहीं हो पा रहा है। इससे आसपास गंदगी फैलती है।

मंजू शर्मा

नालों के किनारे रोज सफाई नहीं होती है, कई बार बच्चे इसके सहारे शौच करने लगते हैं। जिन्हें बार - बार भगाना पड़ता है। सफाई के साथ इस पर लोगों को निगरानी रखनी पड़ती है।

अनिल मित्तल

साफ सफाई को लेकर बहुत अधिक समस्या नहीं है। दो बार कैंट बोर्ड के कर्मचारी आते हैं। सीवर न होने से नालों से पानी की निकासी की दिक्कत है।

श्रीकृष्ण कंसल

सफाई तो नियमित होती है। कूड़ा भी उठाने के लिए कर्मचारी आते हैं। लेकिन खुले मोहल्ले में कई बार शराब पीने वालों से समस्या रहती है।

दीपक

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप