मेरठ, जागरण संवाददाता। भू-माफिया यशपाल तोमर को धोखाधड़ी के मुकदमे में जमानत नहीं मिल सकी है। अदालत ने गंभीर अपराध मानते हुए जमानत अर्जी खारिज कर दिया है। यशपाल पर आरोप है कि दिल्ली के भारत लाल की जमीन हड़पने के लिए उसके भाई गिरधारी पर हमला करा दिया था, जिसमें पुलिस से सेटिंग कर भारत लाल को आरोपित बनवा दिया था।

पुलिस की जांच में पर्दाफाश होने पर यशपाल तोमर और उसके साथी धीरज डिगानी को आरोपित बनाया गया था। धीरज डिगानी ने भी कोर्ट में सरेंडर कर दिया, जबकि यशपाल तोमर पहले से हरिद्वार जनपद की रोशनाबाद जेल में बंद है। पुलिस की टीम यशपाल तोमर की मेरठ और बागपत की संपत्ति की तलाश कर रही है। पुलिस को यशपाल की मेरठ और बागपत में भी करोड़ों की संपत्ति मिली है, जो यशपाल तोमर ने अपने रिश्तेदार और नौकरों के नाम की हुई है। पुलिस की टीम संपत्ति के मालिकों को पकड़कर पूछताछ करेगी।

बता दें कि देहरादून में 153 करोड रुपए की संपत्ति एसटीएफ हरिद्वार ने व 135 बीघा कीमती जमीन ग्रेटर नोएडा के दादरी स्थित बटहेड़ा गांव में मेरठ पुलिस ने जब्त की है। एएसपी ब्रह्मपुरी विवेक यादव का कहना है कि मेरठ में भी यशपाल तोमर ने अपने रिश्तेदारों के नाम करोड़ों रुपए की संपत्ति की हुई। यशपाल की संपत्ति बागपत में भी बताई गई हैं। दोनों जनपद में उसकी संपत्ति का पता लगाकर पुलिस जब्ती करण की कार्रवाई करेगी। 

Edited By: Taruna Tayal