बिजनौर, जेएनएन। पहाड़ी क्षेत्रों में हुई बारिश से गंगा के जलस्तर में वृद्धि होने की वजह तहसील सदर क्षेत्र में स्थित माता भंगा कालोनी के सामने कटान शुरू हो गया। वहीं मंडावर खादर क्षेत्र में खड़ी फसलों में कई-कई फुट पानी भर गया। उधर खादर में खेती कर रहे किसान भी वापस लौट आए है।

पहाड़ी क्षेत्र में दो दिन पहले हुई तेज बारिश की वजह से गंगा का जलस्तर बढ़ा है। भीमगाड़ा बैराज (उत्तराखंड) से शनिवार की रात्रि 20 हजार क्यूसेक और रविवार की सुबह 14 हजार क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किए जाने की वजह से तहसील सदर क्षेत्र में माता ग्राम भंगा कालोनी के सामने गंगा की तेजधार ने कटान शुरू कर दिया है। वही खादर क्षेत्र में तरबूज, खरबूजा, खीरा ककड़ी आदि की खेती कर रहे किसान वापस अपने घर लौट रहे है। कटान को लेकर कालोनी में रहने वाले ग्रामीण चिंतित है। वहीं ग्राम धर्मनगरी, घासीवाला के जंगल में खड़ी फसलों में दो-दो फुट पानी भरा हुआ है। वहीं जलस्तर बढ़ने की की सूचना मिलने के बाद वन गुर्जर अपने पशुओं को लेकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंच गए है। उधर गंगा का जलस्तर बढ़ने से मंडावर खादर क्षेत्र में खड़ी फसलों में पानी भरा है। खादर क्षेत्र के किसानों का कहना है कि यदि गंगा जलस्तर और बढ़ा, तो उनकी फसलें डूब जाएगी।

बरसात से पूर्व हटाया जाएगा पैंटून पुल

डैबलगढ़-शुकतीर्थ के बीच गंगा नदी पर बना पैंटून पुल पर बरसात से पूर्व हटाने का काम अंतिम चरण में है। इस पुल के निर्माण में 66 पीपों का इस्तेमाल किया गया था, अब तक 75 फीसदी पीपे हटा दिए गए है। शेष पीपों का हटाने का काम तेजी से चल रहा है। पुल की देखरेख् को तैनात अवर अभियंता आजाद सिंह ने पैंटून पुुल हटाए जाने की पष्टि करते हए बताया, कि जलस्तर बढ़ने की वजह से पैटून पुल बहने की संभावना रहती है, इसलिए बरसात से पहले पैंटून पुल हटा दिया जाता है।

 

Edited By: Taruna Tayal