मेरठ : एचआइवी के इलाज में काम आने वाले साफिया बीज की खरीद-फरोख्त का झांसा दे करोड़ों रुपये ठगने वाले गिरोह का राजफाश करते हुए साइबर सेल ने दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। एसपी सिटी मान सिंह चौहान ने शुक्रवार को क्राइम ब्रांच भवन में प्रेस वार्ता कर बताया कि आरोपितों ने फर्जी आइडी से बैंक खाते खुलवा रखे थे। ठगी गई रकम इन्हीं खातों में डलवाई जाती थी। गिरोह के तार नाइजीरिया तक जुड़े हुए हैं। आरोपितों से एक डिब्बा बीज, चार मोबाइल, बैंक पासबुक, चेकबुक, पैनकार्ड, आधार कार्ड आदि दस्तावेज बरामद हुए हैं।

सोशल मीडिया से करते थे ठगी की शुरुआत

आरोपित लड़कियों के नाम से फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर दोस्ती करते थे। चेटिंग में बताते कि उनकी फर्म साफिया बीज खरीदती है, जो एचआइवी के इलाज में काम आते हैं। वे भारत से ढाई लाख रुपये में एक डिब्बा बीज खरीदने का झांसा देते। पीड़ित व्यक्ति के पास आरोपितों का ही कोई साथी कॉल करके साफिया बीज उपलब्ध कराने की बात कहता।

गंगानगर के व्यक्ति से 7.24 लाख रुपये ठगे

राधा गार्डन सी-131, गंगानगर निवासी पवन कुमार का कहना है कि नवमिता और विक्टोरिया नाम के फेसबुक अकाउंट पर दोस्ती हुई। दोनों ने साफिया बीज खरीदने की बात कही। इसी बीच लालमोहन गौड़ नाम के व्यक्ति ने बीज उपलब्ध कराने का दावा किया और 15 पैकेट देने की एवज में 7.24 लाख रुपये खाते में डलवा लिए। पवन ने सोचा था कि वह 55 हजार प्रति पैकेट में साफिया बीज खरीदकर ढाई लाख प्रति पैकेट बेच देगा। लेकिन, न तो बीज मिले और न ही रकम वापस मिली। लालमोहन दो माह पहले गिरफ्तार हो चुका है।

नाइजीरियन गैंग से जुड़ा है अजय कश्यप

एसपी सिटी ने बताया कि पकड़े गए आरोपित ऊगन चौधरी उर्फ अमन उर्फ अजय उर्फ राजेश निवासी 23 फ‌र्स्ट, राजधानी एंक्लेव राजू पार्क, देवली, दक्षिण दिल्ली और राजू अवस्थी उर्फ सुनील निवासी जिला मधुबन, बिहार व हाल सेक्टर 108 डी-96 नोएडा हैं। दोनों आरोपित इलाहाबाद व हाल एल-ब्लॉक फ‌र्स्ट फ्लोर निकट नूरानी मस्जिद निवासी अजय कश्यप के लिए काम करते हैं जो नाइजीरियन गैंग से जुड़ा है। उसकी गिरफ्तारी की कोशिश की जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस