मेरठ, जेएनएन। Flood Alert In Meerut बिजनौर के बाद अब मेरठ के हस्तिनापुर में भी बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। पहाड़ी क्षेत्रों में हुई भारी बारिश से गंगा नदी में ऊफान आ गया है। जिसे लेकर मेरठ प्रशासन ने खादर क्षेत्र में अलर्ट जारी कर दिया है। गंगा नदी के तटीय गांव के लोगों को गंगा किनारे जाने से मना किया है। वहीं शनिवार की प्रात ही विधायक समेत प्रशासनिक अमला भी खादर क्षेत्र में पहुंच गया है। शनिवार की प्रात हरिद्वार के भीमगौडा बैराज से लगभग चार लाख क्यूसेक पानी डिस्चार्ज किया गया है। जिससे खादर क्षेत्र में बाढ़ की आशंका प्रबल हो गई है। इस बीच शाम को डीएम मेरठ बालाजी ने हस्तिनापुर के खादर क्षेत्र का दौरा करके अफसरों को आवश्‍यक दिशा निर्देश दिए।

शाम को पानी पहुंचेगा खादर

गंगा नदी में बढते जलस्तर को देखते हुए सीडीओ शशांक चौधरी, एडीएम वित्त एवं राजस्व सुभाष प्रजापति, एसडीएम कमलेश कुमार गोयल गंगा तट पर पहुंचे और ग्रामीणों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की बात कही। प्रशासन ने अलर्ट किया कि यदि ग्रामीणों का खेतों पर कृषि यंत्र या अन्य सामान है तो उन्हें भी सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दें। गंगा नदी का बढ़ा हुआ जलस्तर शनिवार की शाम करीब छह बजे तक खादर क्षेत्र में पहुंचेगा।

सरकार ग्रामीणों के साथ, हर मदद को तैयार

ग्रामीणों के बीच पहुंचे क्षेत्रीय विधायक दिनेश खटीक ने कहा कि गंगा नदी में बढ़े जलस्तर से गंगा किनारे गांवों में परेशानी उत्पन्न हो सकती है। उन्होंने कहा कि सरकार बाढग़्रस्त क्षेत्रों के लिए हरसंभव मदद को तैयार है। उन्होंने अथक प्रयास कर लगभग तीस करोड़ रूपये की लागत से कटाव निरोधक तैयार कराए है। जो गंगा नदी के कटान को रोकने में सहायक सिद्ध होंगे।

लोगों सचेत किया गया

गंगा नदी में बढ़ते जलस्तर को देखते हुए थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह व प्रशासनिक अधिकारियों ने गंगा के तटीय गांवों में पहुंचकर लोगों को बढ़ते जलस्तर को लेकर सचेत किया। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति गंगा तटों के समीप न जाए।

Edited By: Prem Dutt Bhatt