मेरठ, जागरण संवाददाता। नगर में हस्तिनापुर रोड स्थित पिंजरापोल गोशाला में पांच गोवंशी की मौत हो गई। बुधवार सुबह चारा डालने गए गो सेवक तब मामले की जानकारी हुई। लोगों ने पर्याप्त चारा नहीं मिलने व देखरेख के अभाव का आरोप लगाकर आक्रोश जताया।

नगर में हस्तिनापुर रोड पर मध्य गंग नहर के पास दशकों पुरानी गोशाला है, जहां पर छोटे व बड़े करीब 200 गोवंश है। देखरेख के अभाव में दो लवारे सहित पांच गोवंश की मंगलवार रात मौत हो गई। पशुओं की मौत की जानकारी बुधवार सुबह तब हुई जब गुड़मंडी निवासी बोधराज, बाबी अग्रवाल, राजेश अग्रवाल आदि लोग गोशाला में पशुओं को चारा डालने के लिए गए थे। हंगामे की स्थिति बनी दो गौशाला प्रबंध समिति के लोगों पहुंच गए और मृत गोवंशीय को उठवाकर पास ही जमीन में गड्ढा करवा कर दबा दिया।

पूर्व में भी हो चुकी है गोवंशी की मौत

गोशाला में पशुओं की मौत यह पहला मामला नहीं है। पूर्व में भी गोशाला में गोवंश की मौत हो चुकी है। गोवंश की समुचित देखभाल नहीं हो पाती है। चारा व देखरेख के साथ इलाज के अभाव में बीमार पशु दम तोड़ रहे हैं।

इन्होंने कहा...

पिंजरापोल गोशाला की प्रबंध समिति में मंत्री मुकेश गुप्ता का कहना है कि तीन पशुओं की मौत हुई है। जिनमें एक गाय काफी बुढ़िया होने के कारण बीमार चल रही थी। जबकि कुत्तों के हमले में जख्मी दो लवारे जो बीमार भी थे। पर्याप्त चारा है और देखरेख भी सही ढंग से की जा रही है यह आरोप निराधार हैं।

चिकित्सा अधिकारी मवाना डा.सोमेश कुमार ने सभी गोवंशी को स्वस्थ बताया। कुछ पशु गोशाला आने से पहले ही बीमार थे उनकी मौत हो गई है।

 

Edited By: Taruna Tayal