मेरठ, जेएनएन। Coronavirus Lockdown Day 3 खाद्य पदार्थों की कालाबाजारी और मुनाफाखोरी की शिकायतों पर लगाम लगाने के लिए जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने गुरुवार को राशन, सब्जी और फल आदि खाद्य सामग्री के थोक और फुटकर बाजार के रेट तय कर दिए। इससे ज्यादा दाम पर कोई बिक्री नहीं कर सकेगा। खुदरा व्यापारी थोक की दर पर दो रुपये से लेकर आठ रुपये प्रति किग्रा का लाभ ले सकेंगे।

अब मुनाफाखोरी की तो खैर नहीं

जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने बताया कि आवश्यक सेवा के तहत आने वाली वस्तुओं की उपलब्ध बनाये रखने के लिए यह आदेश आवश्यक था। आदेश के मुताबिक निर्धारित दरों से अधिक दरों पर खाद्य सामग्री की बिक्री करना अपराध होगा। शिकायत मिलने पर संबंधित के विरुद्ध एफआइआर दर्ज कराई जाएगी।

इनका कहना है

जनपद में फल, सब्जी और राशन की सामग्री की कोई कमी नहीं है। लगातार इन सभी की आपूर्ति जनपद को मिल रही है। इसीलिए जनता से अपील है कि आवश्यकता के मुताबिक सामग्री ही खरीदें। अतिरिक्त सामान खरीदने की आवश्यक्ता नहीं है।

- अनिल ढींगरा, जिलाधिकारी

कालाबाजारी की शिकायत शून्य

पुलिस-प्रशासन की सख्ती के चलते गुरुवार को कालाबाजारी के मामले सामने नहीं आए। हालांकि मदद मांगने वालों की संख्या में दोगुने तक पहुंच गई है। इसके अलावा गली-मोहल्लों में खड़े होने वालों की संख्या भी बुधवार की अपेक्षा कम रही। गुरुवार को डायल-112 पर करीब साढ़े पांच सौ शिकायतें दर्ज की गईं। बीमारी की जानकारी देने के लिए सबसे अधिक बार फोन घनघनाया। गुरुवार को 377 कॉल बीमारी से संबंधित आए। डायल-112 प्रभारी मिथुन दीक्षित ने बताया कि गुरुवार को पौने चार सौ लोगों ने आसपास के लोगों के बीमार होने की जानकारी दी। साथ ही बाहर से आने वालों के बारे में भी बताया। गली-मोहल्लों में भीड़ जुटने के मामलों में भी कमी आई है। राशन और खाने-पीने का सामान मंगवाने के मामले दोगुने के करीब पहुंच गए।

गुरुवार को आई शिकायतें

बीमारी की जानकारी - 377

राशन पहुंचाने के लिए - 130

लोग एकत्र होने पर - 150

घर पहुंचाने के लिए - 15

सीधे डीएम से की शिकायत

गुरुवार को डायल-112 पर कालाबाजारी की कोई शिकायत नहीं आई, लेकिन ऐसा भी नहीं था कि कालाबाजारी रुक गई हो। रोहटा रोड निवासी गौरव गुप्ता ने बताया कि वह नवीन मंडी में अपनी दुकान के लिए सामान लेने गए थे। व्यापारी खुलेआम कालाबाजारी कर रहे हैं। कल तक जो दाल 84 रुपये किलो थी, वह गुरुवार को 102 रुपये किलो बेच रहे थे। उन्होंने इसकी शिकायत जिलाधिकारी से की थी। डीएम ने उनको कार्रवाई का भरोसा दिया था।

घर में राशन नहीं होने पर पहुंचा थाने

लिसाड़ी गेट क्षेत्र निवासी सलमान गुरुवार को पत्नी शहनाज और दो बच्चों के साथ थाने पहुंचा। उसने बताया कि वह फेरी लगाता है। लॉकडाउन के वजह से काम बंद है। उसके पास रुपये भी नहीं है कि राशन खरीद सके। उसने थाना प्रभारी से राशन दिलाने की गुहार लगाई। इस पर थाना प्रभारी ने उनको पुलिसकर्मियों के साथ भेज दिया और कुछ दिन का राशन दिलाया। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस