मेरठ, जेएनएन। नंगलामल शुगर मिल के श्रमिकों ने किसानों के साथ मिलकर कम मजदूरी का विरोधव अन्य सुविधाओं की मांग को लेकर सोमवार को किसान मजदूर संगठन के बैनर तले मिल गेट पर धरना-प्रदर्शन किया। आंदोलनकारी श्रमिक शासन द्वारा निर्धारित मजदूरी, पीएफ व अन्य सुविधाओं की मांग कर रहे थे।

दरअसल, शुगर मिल के मजदूरों ने कम मजदूरी के विरोध व अन्य सुविधाओं की मांग को लेकर गत दिनों किसान मजदूर संगठन के नेतृत्व में मिल गेट पर धरना-प्रदर्शन किया था। जिस पर मिल अधिकारियों की संगठन पदाधिकारियों से सुलह वार्ता हुई। आंदोलनकारियों ने अधिकारियों को ज्ञापन देते हुए 25 अक्टूबर तक समस्याओं का समाधान न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी थी। सोमवार को संगठन के कार्यकर्ता व पदाधिकारी मिल गेट पर पहुंचे और धरना देकर बैठ गए। उन्होंने मिल प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जिस पर मिल अधिकारी मौके पर पहुंचे। प्रबंधन ने किसानों को बताया कि शुगर मिल में काम करने वाले सभी ठेकेदारों को आदेश दिया गया है कि वे सभी मजदूरों को शासन द्वारा निर्धारित मजदूरी का बैंक खातों के माध्यम से भुगतान करेंगे तथा मजदूरों को पीएफ की सुविधा भी दें। मिल प्रबंधन के आश्वासन के बाद धरना समाप्त कर दिया गया।

किसान मजदूर संगठन के जिला अध्यक्ष देवराज सिंह पुंडीर ने बताया कि मिल प्रबंधन ने मजदूरों की समस्याओं के निदान का आश्वासन दिया है, जिसके चलते धरना समाप्त कर दिया गया है। इस बाबत शुगर मिल के विभागाध्यक्ष गन्ना एलडी शर्मा ने बताया कि आंदोलनकारी मजदूर ठेकेदारों के अंर्तगत काम कर रहे हैं, लेकिन ठेकेदार द्वारा उन्हें उचित मजदूरी नहीं दिए जाने बात सामने आने पर सभी ठेकेदारों को चेतावनी दे दी गई है। ठेकेदार मजदूरों को शासन द्वारा निर्धारित मजदूरी का भुगतान मजदूरों के खातों के माध्यम से करेंगे। उन्होंने कहा कि सभी मजदूरों को नियमित कर्मचारियों की तरह पीएफ एवं चिकित्सा सुविधा भी दी जाएंगी।

Edited By: Jagran