मेरठ । वर्ष-2019-20 के लिए शनिवार को जिले की देशी व विदेशी शराब की दुकानों का आवंटन कर दिया गया। शनिवार को छूटे जिले के तीन सबसे महंगे ठेकों की मालकिन महिलाएं बनी हैं। वहीं, ई-लाटरी के माध्यम से किए गए आवंटन में जिले में सबसे अधिक मंहगा ठेका बागपत स्टैंड का अंग्रेजी शराब का 61 लाख 95 हजार में छूटा है।

जिले में नवीनीकरण की प्रक्रिया पूरी होने के बाद शनिवार को ई-लाटरी के माध्यम से शराब देशी व विदेशी दुकानों एवं भांग आदि के ठेकों का आवंटन किया गया। इसके लिए कलक्ट्रेट परिसर स्थित बचत भवन में व्यवस्था की गई थी। कलक्ट्रेट परिसर को पुलिस छावनी में तब्दील किया हुआ था। ई-लाटरी के माध्यम से यह आवंटन किया गया। शाम साढे़ पांच बजे शुरू हुई आवंटन की प्रक्रिया शाम करीब सात बजे तक पूरी कर ली गई। पर्यवेक्षक व एमडी पश्चिमांचल विद्युत वितरण निगम आशुतोष निरंजन, डीएम अनिल ढींगरा, एडीएम सिटी महेश चंद्र शर्मा, संयुक्त आबकारी आयुक्त राजेश मणि त्रिपाठी, उप आबकारी आयुक्त धीरज सिंह एवं जिला आबकारी अधिकारी आलोक कुमार की मौजूदगी में आवंटन की यह प्रक्रिया हुई।

सबसे पहले जिले की देशी शराब की दुकानों का ई-लाटरी के माध्यम से आवंटन किया गया। देशी शराब की कुल 15, विदेशी की 40, बीयर की 33, माडल शॉप की एक एवं भांग की आठ दुकानों का आवंटन किया गया। जिले में देशी शराब का सबसे मंहगा ठेका गगोल रोड की दुकान का 52,64,640 में छूटा है। यह ठेका महिला प्रेमवती को मिला है। जबकि अंग्रेजी शराब का सबसे मंहगा ठेका 61.95 लाख का बागपत स्टैंड का छूटा है। यह भी महिला प्रकाशवती के नाम छूटा है।

इसके बाद हापुड़ चुंगी पर अंग्रेजी शराब का ठेका 57.40 लाख का छूटा है। बीयर का सबसे अधिक मंहगा ठेका कंकरखेड़ा का 19.30 लाख का कंकरखेड़ा के अशोक कुमार के नाम छूटा है। बीयर का पूर्वा अहिरान का ठेका 14 लाख में गया है। वहीं, मवाना की एकमात्र मॉडल शाप का भी ठेका 58.50 लाख का छूटा है। यह पूनम कालरा को मिला है। वहीं, भांग का सबसे महंगा ठेका सदर कैंट का 41 लाख पांच हजार में छूटा है। यह ठेका रवि शर्मा के नाम छूटा है। शनिवार को आवंटित देशी, अंग्रेजी एवं मॉडल शाप के सबसे मंहगे ठेके इस बार तीनों महिलाओं के नाम छूटे हैं। इसके अलावा भी कई और ठेके महिलाओं के नाम छूटे हैं।

जिला आबकारी अधिकारी आलोक कुमार ने बताया कि आवंटन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद सभी को दुकानदारों को आवंटन पत्र भी वितरित कर दिए गए हैं। उधर, शराब की दुकानों के आवंटन के कारण कलक्ट्रेट परिसर को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस