मेरठ, जेएनएन। कोरोना के चलते नियोक्ताओं व कर्मचारियों का बोझ कम करने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत भविष्य निधि के खाते में अंशदान का 24 प्रतिशत वहन किया जाएगा। इसका लाभ पात्र कर्मचारियों को देने के लिए ईपीएफओ ने नियोक्ताओं को ईसीआर दाखिल कराने को कहा है।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) क्षेत्रीय कार्यालय आयुक्त प्रथम मोहम्मद शारिक ने बताया नियोक्ताओं से संस्थान के कर्मचारियों की संख्या के बारे में जानकारी देने को कहा गया है। साथ ही उन्हें ईसीआर (इलेक्ट्रानिक चालान कम रिटर्न) दाखिल कराना होगा। ईपीएफओ ने नियोक्ताओं के लिए ईसीआर दाखिल करने की प्रक्रिया को भी आसान बनाया है। अब बिना भुगतान के भी ईसीआर प्रस्तुत किया जा सकता है। इसका लाभ उन संस्थाओं को दिया जाएगा, जिसमें 100 से कम कर्मचारी कार्यरत हैं। साथ ही 90 प्रतिशत कर्मचारियों को 15 हजार से कम वेतन मिलता हो। इसके अलावा ईपीएफ योजना में विशेष निकासी का प्रावधान भी किया गया है। नए प्रावधान के तहत तीन महीने के मूल वेतन और महंगाई भत्ते के बराबर या सदस्य अपने ईपीएफ खाते में पड़ी राशि के 75 प्रतिशत तक रकम निकल सकते हैं। अंशधारक को इस राशि को लौटाने की जरूरत नही है। इस प्रावधान के अंतर्गत मेरठ ने कुल 15,296 दावों का निस्तारण किया जा चुका है, जिसमें कोरोना को लेकर किए गए दावों में 14.75 करोड़ की राशि का भुगतान किया गया।

विकास के अधिकतर प्रोजेक्ट का लक्ष्य बढ़ा

मेरठ : दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे समेत कई विकास के प्रोजेक्ट को पूरा करने का लक्ष्य अब छह माह बढ़ा दिया गया है। वित्त मंत्री की घोषणा के बाद यह स्पष्ट हो गया। हालांकि यह भी परिस्थितियों पर निर्भर करेगा। सभी प्रोजेक्ट को छह माह का अतिरिक्त समय मिलेगा यह जरूरी नहीं है। आइटी पार्क अब हैंडओवर होने की स्थिति में है। आवागमन सामान्य होते ही यहां पर थोड़ा कार्य जो बचा है उसे एक या दो महीने में पूरा कर लिया जाएगा। ऐसे में इस प्रोजेक्ट को ज्यादा से ज्यादा तीन महीने का ही अतिरिक्त समय मिलेगा। वित्त मंत्री ने यह भी कहा है कि कार्य को देखकर लक्ष्य का समय बढ़ेगा। एनएच-235 भी तैयार हो चुका है उसका कुछ ही कार्य शेष है ऐसे में कार्य का निरीक्षण के बाद शायद उसे भी तीन माह से अधिक समय न मिले। डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के लिए छह माह का अतिरिक्त समय संजीवनी का कार्य करेगा। यह प्रोजेक्ट वैसे भी कई बाधाओं की वजह से पिछड़ चुका है। रैपिड रेल वैसे भी 2023 से चलेगी ऐसे में उसके लक्ष्य का अभी तात्कालिकता से कोई सरोकार नहीं है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस