मेरठ, जेएनएन। बारिश से शहर के निचले इलाकों में जलजमाव की स्थिति बन गई है। सड़क किनारे बने खत्तों में गंदगी फैली हुई है। जिसके चलते बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। जलजमाव के चलते मच्छरों के पनपने की स्थिति बन गई है। अगर नगर निगम ने एंटी लार्वा छिड़काव व सफाई पर जोर नहीं दिया तो डेंगू और जानलेवा बुखार के मामले और बढ़ सकते हैं।

शहर में मोहकपुर, देवलोक कालोनी के आसपास, मेजर ध्यानचंद नगर, माधवपुरम, बागपत रोड से जुड़े मोहल्ले चंद्रलोक कालोनी, साबुन गोदाम, मलियाना, शेखपुरा में सड़क व गलियों मे कहीं-कहीं जलजमाव हो गया है। इन क्षेत्रों में मंगलवार को एंटी लार्वा छिड़काव भी नहीं किया गया है। वहीं, बारिश के चलते सड़क किनारे पड़ने वाले खत्तों पर भी गंदगी व दुर्गंध व्याप्त है। कंकरखेड़ा मार्शल पिच व दिल्ली रोड के करीब मंगतपुरम में कूड़ा डंप है। न तो खत्तों के आसपास और न ही डंप कूड़े के आसपास एंटी लार्वा का छिड़काव किया गया है।

लोहिया नगर में भी हालात ठीक नहीं

खरखौदा : हापुड़ रोड किनारे लोहियानगर डंपिग ग्राउंड के बाहर सड़क किनारे ही नगर निगम की कूड़ा गाड़ियां कूड़ा पलट रही हैं। बारिश से सड़क किनारे जलजमाव भी हो गया है। इससे मच्छर पनप सकते हैं। यहां कूड़े का पहाड़ लगा हुआ है। हालांकि कूड़ा निस्तारण प्लांट चलाया जा रहा है। लेकिन नगर निगम ने कूड़े के पहाड़ पर कल्चर व एंटी लार्वा छिड़काव अभी तक नहीं कराया है। बता दें कि बारिश से शहर के निचले इलाकों में जलजमाव की स्थिति बन गई है। सड़क किनारे बने खत्तों में गंदगी फैली हुई है। जिसके चलते बीमारियों का खतरा बढ़ गया है।

Edited By: Jagran