मेरठ,जेएनएन। सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को अब पत्रकार की हत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद भू-माफिया की नजर उसकी करोड़ों की संपत्ति पर टिक गई है। शुक्रवार को सिविल लाइन थाना क्षेत्र में सूरजकुंड स्थित बंद पड़े नाम चर्चा घर में कुछ लोगों ने तोडफ़ोड़ कर आगजनी कर दी। फायर ब्रिगेड ने आग पर काबू पाया। एसपी सिटी रणविजय सिंह ने बताया कि आग लगने के कारण स्पष्ट नहीं है। सिविल लाइन पुलिस जांच कर रही है, जल्द स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

शुक्रवार दोपहर नाम चर्चा घर के अंदर से लोगों ने धुआं उठता देखा। उन्होंने पुलिस व फायर ब्रिगेड को सूचना दी। कुछ देर बाद फायर ब्रिगेड की दो गाडिय़ां और पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन मुख्य गेट का ताला लगा था। आग बढ़ती देख अग्निशमन कर्मियों ने ताला तोड़ दिया। अंदर एक टाटा इंडिगो कार समेत अन्य सामान जल रहा था। अलमारी से सामान भी गायब था। तोडफ़ोड़ भी की गई थी। करीब आधा घंटे बाद आग बुझाई जा सकी। मौके पर पहुंचे सेवादार आग लगने के कारण स्पष्ट नहीं कर पाए। उन्होंने आशंका जताई है कि किसी ने दीवार फांदकर पहले चोरी की और फिर तोडफ़ोड़ कर आग लगा दी। इसी बीच कार मालिक कृष्ण कुमार निवासी दुर्गानगर गढ़ रोड भी पहुंच गए। उन्होंने बताया कि काफी दिन पहले उन्होंने आश्रम में कार खड़ी की थी। वहां से कितना सामान चोरी हुआ और कितने का नुकसान हुआ, इसका आकलन किया जा रहा है।

दबी जुबान में बोले सेवादार

दबी जुबान में सेवादार कह रहे हैं कि कोई राम रहीम की संपत्ति पर कब्जा करना चाहता है, इसलिए घटना को अंजाम दिया गया। लेकिन, वह ऐसा नहीं होने देंगे।

पुलिस दबाती रही मामला

देर रात तक पुलिस मामले को दबाती रही। इंस्पेक्टर अब्दुर रहमान सिद्दिकी का कहना है कि कार में गैस के कारण आग लगी है। यदि कोई लगाता तो मुख्य गेट खुला होता। पुलिस जांच कर रही है। तोडफ़ोड़ जैसा मामला नहीं है। वहीं, दूसरी ओर इंस्पेक्टर के बयान से इतर बात करें तो मौके पर तोडफ़ोड़ और आगजनी के निशां स्पष्ट हैं।

 

Posted By: Nawal Mishra