मेरठ, जागरण संवाददाता। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे पर ट्रैफिक पुलिस लगातार दोपहिया वाहन चालकों पर कार्रवाई कर रही है। जिस वजह से हादसों में कमी देखने को मिली है। बीस-बीस हजार का चालान करने पर भी दोपहिया वाहन चालक जान जोखिम में डालकर एक्सप्रेस-वे की तरफ आ रहे है। 

बीस-बीस हजार के पंद्रह से ज्यादा चालान

टीएसआइ निमेष कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस कार्रवाई की वजह से काफी हद तक दोपहिया वाहन जो बेधड़क एक्सप्रेस-वे पर दौड़ते थे। उनमें कमी देखने को मिली है। लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद कुछ लोग सुधरने का नाम नहीं ले रहे है। पिछले तीन से चार दिन में बीस-बीस हजार के पंद्रह से ज्यादा चालान हो चुके है। मंगलवार को भी दोपहिया वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई। हालांकि बीस-बीस हजार के चालान तो कटे नहीं, लेकिन अन्य गलती में उनसे डेढ़ लाख रुपये का शमन शुल्क वसूला गया है। एसपी ट्रैफिक जितेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि एक्सप्रेस-वे से चढ़ने वाले मार्गों पर भी पुलिस तैनात होगी।

टोल प्लाजा पर स्कैन नहीं हुआ फास्टैग, कर्मियों से बदसलूकी 

मेरठ। जानी थाना क्षेत्र के ग्राम नंगली निवासी नीरज दो दिन पहले दिल्ली से लौट रहे थे। काशी टोल प्लाजा पर उनकी गाड़ी में लगा फास्टैग स्कैन नहीं हुआ। टोलकर्मी पर्ची के दोगुनी रकम नीरज से वसूलने लगे। इस कारण नीरज और टोल कर्मियों में विवाद हो गया। आरोप है कि नीरज ने बदसलूकी करते हुए टोल पर लगा बूम तोड़ने की कोशिश की। इससे बूम का बैलेंस खराब हो गया। तभी पीआरवी टीम मौके पर पहुंच गई। पुलिसकर्मियों को देखकर नीरज टोल की पर्ची के पैसे देकर चला गया।

पुलिस पर कार चढ़ाने की कोशिश 

टोल मैनेजर ने नीरज के विरुद्ध तहरीर देते हुए फुटेज पुलिस को सौंप दी। मंगलवार को पुलिसकर्मी नीरज को पकड़ने बाईपास गए थे। तभी पुलिस को देखकर नीरज और उसके एक प्रधान मित्र ने हंगामा कर दिया। आरोप है कि उन्होंने पुलिस पर कार चढ़ाने की कोशिश की। पुलिसकर्मी नीरज को थाने लेगए। थाना प्रभारी ने कहा कि नीरज पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Edited By: Parveen Vashishta