मेरठ, जेएनएन। शास्त्रीनगर एल-ब्लाक में बंद कमरे में युवक का शव बरामद होने से सनसनी फैल गई। स्वजन ने पत्नी के खिलाफ शिकायत दी है। उनका कहना है कि युवक का पत्नी से विवाद चल रहा था। पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। शव को देखकर लग रहा है कि युवक की मौत 15 दिन पहले ही हो चुकी थी।

निर्दोष गौतम पुत्र आरपी गौतम पत्नी मंजू के साथ शास्त्रीनगर में रहता था। निर्दोष और मंजू के बीच कई दिनों से विवाद चल रहा था। इसी के चलते निर्दोष की मा भी उसे छोड़कर बेटी के पास चली गई थी। दंपती के बीच विवाद इतना बढ़ा कि पत्नी 14 नवंबर को अपने मायके आगरा चली गई। निर्दोष की बहन अंजलि ने उसे 16 नवंबर को काल की थी। उसके बाद से निर्दोष का मोबाइल बंद आ रहा था। निर्दोष से कोई संपर्क नहीं होने की वजह से बालाजीपुरम, शाहगंज आगरा में रहने वाली अंजलि अपने पति के साथ शास्त्रीनगर पहुंची। मकान खोलकर देखा तो बेडरूम में निर्दोष का शव पड़ा था। घर में से बदबू आ रही थी। बहन अंजलि ने आरोप लगाया कि मंजू की वजह से या तो निर्दोष ने आत्महत्या की है, या फिर उसकी हत्या कराई गई है। अंजलि की तरफ से थाने में तहरीर दे दी गई है। एसपी सिटी विनीत भटनागर ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही हत्या या आत्महत्या से पर्दा उठ सकेगा। घर में कोई सुसाइड नोट भी पुलिस को नहीं मिला है। पुलिस मान रही है कि शराब पीने से भी युवक की मौत हो सकती है क्योंकि आत्महत्या करने के भी कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं।

Edited By: Jagran