मेरठ, जेएनएन। साइबर ठगों ने पांच मिनट में खाता साफ कर दिया। एक महीने बाद जब महिला को पता चला तो उसने कस्टमर केयर पर शिकायत की। इसके बाद थाने पहुंचकर मामले की जानकारी दी। वहां से पीड़िता को साइबर सेल भेज दिया गया। पीड़‍िता ने बताया कि साइबर ठगी के बाद उनके पास एक बार भी उनके पास ना तो ओटीपी आया था और ना ही खाते से रुपए निकालने का कोई मैसेज आया था।

यह है मामला

सिविल लाइन थाना क्षेत्र के साकेत निवासी श्वेता अग्रवाल ने बताया कि शुक्रवार को उन्होंने बैंक की स्टेटमेंट चेक की थी, जिसे देखकर वह हैरान हो गई। 18 अगस्त को उनके खाते से पांच मिनट के भीतर ही सात बार में 44 हजार निकाल लिए गए। इस दौरान उनके पास ना तो कोई भी ओटीपी आया और ना ही रुपए निकलने का कोई मैसेज आया। उन्होंने तुरंत ही इसकी शिकायत बैंक के कस्टमर केयर नंबर पर की। इसके बाद वह सिविल लाइन थाने पहुंची और रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए प्रार्थना पत्र दिया। थाने से उनको साइबर सेल भेज दिया गया ।

शुरुआत दो सो रुपये से की थी।

इनका कहना है...

श्वेता अग्रवाल ने बताया कि साइबर ठगों ने पहले दो सौ रुपये उनके अकाउंट से निकाले थे। इसके बाद पांच बार में उन्होंने साढ़े आठ हजार रुपये निकाले। अंतिम बार में उन्होंने दो हजार रुपये खाते से निकाले थे। एक बार भी उनके पास ना तो ओटीपी आया था और ना ही खाते से रुपए निकालने का कोई मैसेज आया था ।

 

Edited By: Taruna Tayal