मेरठ, जेएनएन। शहर के युवाओं में टैटू बनवाने का चलन बढ़ा है। पिछले कुछ समय से कोरोना काल के चलते सुरक्षा कारणों से लोगों में टैटू बनवाने का चलन काफी हल्का हुआ। बढ़ते समय में स्थिति सामान्य होने के साथ ही एक बार फिर से लोग खुद को दूसरे से हटकर प्रदर्शित करने के लिए टैटू बनवाने के लिए आगे आ रहे हैं। जिसमें सबसे अधिक टैटू आध्यात्मिक थीम वाले पसंद किए जा रहे हैं। शारदा रोड स्थित कृष्णा टैटूज के संचालक नितिन कुमार ने बताया युवा अपने हाथ, गले, गर्दन और कंधे पर अध्यात्म से जुड़े चिन्ह व अपने आराध्य से जुड़ा टैटू बनवाने की चाह अधिक दिखा रहे हैं। इसके अलावा अपने माता-पिता के चित्र वाले टैटू भी काफी पसंद किए जा रहे हैं। इसके लिए अलग-अलग डिजाइन के हिसाब से उनसे 500 रुपये प्रति इंच के अनुसार चार्ज लिया जाता है। उन्होंने बताया कि युवा टैटू को हाइ क्लास का एक आइकन के तौर पर लेते हैं। करीब पिछले दो से तीन साल में मेरठ शहर में युवाओं के बीच टैटू बनवाने का का चलन बढ़ा है। वहीं, पहले से टैटू बनवाए हुए लोग भी उन्हें हटवाकर नई डिजाइन को बनवा रहे हैं। जिसके लिए लेजर रिमूवर प्रक्रिया के माध्यम से पुराने टैटू हटाकर उनके स्थान पर नई डिजाइन को भी तैयार कर दिया जाता। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले युवा लेजर रिमूवल से टैटू हटवाकर कर छुटकारा पाने आते हैं। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021