सहारनपुर, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जिले में दो विकास योजनाओं का स्थलीय निरीक्षण करेंगे, यह पुख्ता उम्मीद है कि सीएम स्मार्ट सिटी योजना का निरीक्षण कर सकते हैं। स्मार्ट सिटी योजना के अंतर्गत बनाए गए इंटीग्रेटेड कमांड कंट्रोल सिस्टम के सुचारु कार्य करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ यहां पहुंऐ तो करीब 100 करोड़ की लागत से बनने वाले कमांड कंट्रोल सिस्टम की व्यवस्थाएं जांचेंगे। दरअसल नगर निगम सहारनपुर में एक ही छत के नीचे सभी विभागों से जुड़ी व्यवस्थाओं की निगरानी के लिये इंटीग्रेटेड कमांड सिस्टम निर्माण की तैयारी करीब पांच वर्ष पूर्व शुरू हो गई थी। इसके लिए करीब दो करोड़ की लागत से भवन तैयार किया गया था। यहीं से स्मार्ट सिटी की सुरक्षा, क्राइम कंट्रोल ट्रैफिक व्यवस्था, सफाई जैसे जरूरी व्यवस्थाएं संचालित किये जाने हैं।

सहारनपुर में लगेंगे 980 कैमरे

जापान की कंपनी कमांड कंट्रोल सिस्टम का निर्माण कर रही है। यह कार्य अंतिम चरण में है। इस कंट्रोल सिस्टम के तहत सहारनपुर में 980 कैमरे लगाए जाने है, जिसके लिए 200 किलोमीटर तक की ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछाई जा रही है। कमांड कट्रोल सिस्टम के कुल 9 जंक्शन है जिनमें से 6 ने काम करना शुरू कर दिया है।

27 चौराहों पर लगाए जा रहे सिग्नल

कमांड कट्रोल के लिए महानगर में 27 चौराहे चिह्नित हैं। इन चौराहों पर ट्रेफिक सिग्नल लाइटें लगाई जा रही है। जिन चौराहों पर पहले से लाइटें लगी हैं उनको को दुरुस्त कराया जा रहा है। इसके अलावा करीब 980 लोकेशन पर लगेंगे कैमरे लगाने का कार्य तेजी से चल रहा है, जिसमें भीड़ वाले क्षेत्र, मुख्य बाजार और व्यस्त सड़क और चौराहे शामिल है। इसके बाद पूरा महानगर सीसीटीवी कैमरों की जद में होगा। शहर के नवाबगंज, पुरानी चुंगी, देहरादून चौक, अंबेडकर चौक, विश्वकर्मा चौक पर ट्रेफिक सिग्नल लगाई जा चुकी हैं। यही नहीं इंटीग्रेटेड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर में 11 स्थानों पर इमरजेंसी बॉक्स और पब्लिक एड्रेस सिस्टम लगाने का कार्य भी जारी है।

कंट्रोल सिस्टम से संचालित होंगे यह प्रमुख कार्य

- शहर में अनेक लोकेशन पर सर्विलांस सिस्टम।

-तमाम चौराहों और तिराहों तथा प्रमुख बाजारों में सीसीटीवी।

-ऑनलाइन क्राउड मैनेजमेंट।

- कूड़ा उठाने वाली सभी गाड़ियों में जीपीएस डिवाइस।

- किन इलाकों में सफाई हुई, कूड़ा उठाने की गाड़ी पहुंची, इसकी मॉनीटरिंग।

- ट्रैफिक सिग्नल का संचालन।

- चौराहों से निकलने वाली गाड़ियों के नंबर की स्कैनिंग और रिकार्डिंग।

- किन इलाकों में पानी की सप्लाई हुई, कहां बाधित रही।

- एक्सीडेंट की लोकेशन पर मदद के लिए अन्य विभागों से समन्वय।

इनका कहना है...

स्मार्ट सिटी में क्राइम कंट्रोल के अलावा यदि कोई ट्रैफिक नियम के उल्लंघन करता है तो इन कैमरे में रिकॉर्ड हो जाएगा। यही नहीं बिना किसी इंटरफेयर के उनके घरों पर नोटिस पहुंच जाएगा। इसके माध्यम से सफाई पेयजल, नालों की स्थिति के अलावा दुर्घटना आदि पर नजर रखी जायेगी।

-गजल भारद्वाज, सीईओ, स्मार्ट सिटी सहारनपुर। 

Edited By: Taruna Tayal