मेरठ, जेएनएन। विश्व गायत्री परिवार मेरठ के परिजनों द्वारा गायत्री शक्तिपीठ कल्याणनगर गढ़ पर नवीन विस्तार भूमि पर 15 दिवसीय चतुर्वेद पारायण महायज्ञ के प्रथम दिन मनोहरनाथ मंदिर की गुरुमाता नीलिमा नंद जी, वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. अनिल कुमार चौहान,यज्ञ के ब्रह्मा आचार्य अंकुर भारद्वाज ने ध्वजारोहण एवम् दीप प्रज्वलन कर महायज्ञ का आरंभ किया। गुरुमाता नीलिमा नंद ने बताया कि यज्ञ साक्षात परमात्मा है और ऐसे महायज्ञ जीवन मे बार-बार करने के अवसर नहींं मिलते।

रासना डिग्री कॉलेज के इतिहास विभागाध्यक्ष प्रोफेसर तेज वीर सिंह ने यज्ञ एवम् वेदों की महत्ता पर प्रवचन दिया। उन्होंने कहा कि वेदों में ही पूरे जीवन का सार है। बताया कि ऐसे महा यज्ञ में हजारो कुंटल लकड़ी व कई कुंटल ओषधीय युक्त सामग्री व घी का उपयोग होगा जिससे आस पास का बहुत बड़ा क्षेत्र का वातावरण कीटाणु मुक्त और शुद्ध के साथ साथ नई ऊर्जा का संचार भी बनेगा।

विशाल कुण्ड में हो रहे इस महायज्ञ में आज ऋग्वेद के मंत्रो से आहुतियां समर्पित की गई। विश्व कल्याण एवम् सभी के आरोग्य की कामना करते हुए लगभग 40 विशेष औषधियों से युक्त सामग्री की आहुतियां यज्ञ में प्रदान की गईं।

यजमान धीरेन्द्र देव त्यागी, पवित्र त्यागी, आशीष रस्तोगी, अंशु रस्तोगी आदि ने भाग लिया। 

Edited By: Taruna Tayal