मेरठ, जेएनएन। बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती का 64 वां जन्मदिन शेरगढ़ी स्थित कांशीराम पार्क में बुधवार को मनाया गया। इस मौके पर 64 किलो का केक काटा जाएगा। मुख्य अतिथि पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी का फूलों की बड़ी माला पहनाकर स्वागत किया गया। कमल सिंह राज, परवेश आलम, जिलाध्यक्ष सुभाष प्रधान, पार्षद दल नेता धर्मवीर, , ब्रह्मजीत गौतम, मुरारी लाल केन, दयाराम, प्रदीप गुर्जर, मनोज अदाना, जितेंद्र, रविंद्र, सुमेर सिंह धार आदि ने संबोधित किया। रवि गौतम ने सुनाया सब से प्यारी बहन हमारी मायावती महान हैं। भारत की ऊंची शान हैं। नीला झंडा हाथी हथियार चाहिए भारत में बसपा की सरकार चाहिए।

इस बार हुजूम दिखा न जुलूस

इस बार के जन्मदिन कार्यक्रम में पिछली बार की तरह भीड़ दिखाई नहीं दी। मंच पर नेताओं की उतनी उपस्थिति नहीं जितनी पहले हुआ करती थी। यहां तक कि याकूब जिस तरह से पिछली बार जुलूस निकालकर आए थे उस तरह से उनका भी जलवा नहीं दिखा। एक कार से अकेले आए। पिछली बार की तरह उनके बेटे भी इस बार नहीं आए।

कोई बड़ा नेता भी नहीं आया

पिछली बार पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी शमसुद्दीन राईन भेजे गए थे, लेकिन इस बार वह भी नहीं आए। मंच पर मौजूद नेताओं में याकूब के अलावा कोई नामचीन चेहरा दिखाई नहीं दिया।

सरकार जुल्‍म न करे 

याकूब कुरैशी ने कहा कि आजादी में सबसे ज्यादा मुसलमानों की कुर्बानी रही है। भाजपा के लोगों का आजादी से कोई मतलब नहीं है। ये तो अंग्रेजों के मुखबिर थे। आज सरकार नहीं आरएसएस का एजेंडा चल रहा है। इन्हें पाकिस्तान कश्मीर और मुसलमान दिखता है। पाकिस्तान 2 घंटे का भी मेहमान नहीं है। पाकिस्तान को हराने में यहां का मुसलमान आगे रहेगा। जंग में साथ रहेंगे। लेकिन यहां के मुसलमानों को भगाने की बात पाकिस्तान जाने की बात की जा रही है।  पाकिस्तान का पक्ष नहीं लेते। पाकिस्तान का नामोनिशान मिटा देंगे। सरकार जुल्म न करे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस