मुजफ्फरनगर, जागरण संवाददाता। मकान पर कब्जा करने का प्रयास और फर्जी बैनामा बनाने के आरोप में पुलिस ने दो सपा नेता, एक अधिवक्ता व दो महिलाओं समेत सात लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। 

यह है मामला 

मोहल्ला काजियान निवासी आसिफ सिद्दीकी पुत्र मोहम्मद नाजिम ने एसएसपी से शिकायत की थी, जिसमें बताया था कि उसने काजियान मोहल्ले में एक मकान खरीदा है। मकान पर कुछ लोग अपना कब्जा बता रहे हैं। गत दो मई को आरोपितों ने मकान पर कब्जा करने का प्रयास किया और विरोध करने पर मारपीट कर उसे व उसके भाई को घायल कर दिया। पीड़ित ने बताया कि फरहत पुत्री अब्दुल अली निवासी काजियान, मशकूर आलम पुत्र जहूर आलम निवासी गांव खेड़ी कुरेश ने इरफान पुत्र मोहम्मद दीन निवासी काजियान से धोखाधड़ी कर फर्जी बैनामा करा लिया था। शनिवार को एसएसपी के आदेश पर खतौली थाना पुलिस ने मशकूर व फरहत के अलावा सपा नेता इरफान पुत्र मोहम्मद दीन, बैनामे में गवाह सपा नेता फैजान पुत्र रिजवान निवासी गांव खेड़ी कुरेश, राशिद पुत्र रईस निवासी मोहल्ला बालकराम खतौली, शाइस्ता सिद्दीकी पत्नी शाहनवाज निवासी लालकुर्ती जिला मेरठ व अधिवक्ता रवि कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। इंस्पेक्टर संजीव कुमार ने बताया कि जांच के बाद जल्द आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

शव कब्र से निकालकर पोस्टमार्टम कराने की मांग

मुजफ्फरनगर, जागरण संवाददाता। कैराना निवासी नूर इलाही की बेटी रिहाना का निकाह 11 साल पूर्व चरथावल थानाक्षेत्र के गांव दधेडू निवासी युवक से हुआ था। आरोप है कि निकाह के बाद से ही ससुराल वाले उसके साथ मारपीट करते थे। रिहाना का पति दूसरा निकाह करना चाहता था। बीती 29 जून को रिहाना के ससुराल वालों ने सूचना दी कि उसकी मौत हो गई है। वे दधेडू पहुंचे। आरोप है कि रिहाना के ससुराल वालों ने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया और शव को आनन-फानन में दफना दिया। मायके वालों ने आरोप लगाया कि ससुराल वालों ने रिहाना की हत्या की है। मृतका के मायके वालों ने मुख्यमंत्री, डीजीपी, डीएम और एसएसपी को ट्वीट कर शव को कब्र से निकलवा कर पोस्टमार्टम कराने की मांग की है।

Edited By: Parveen Vashishta