बिजनौर, जागरण संवाददाता। बिजनौर लोकसभा सीट से बसपा सांसद मलूक नागर ने कहा कि सचिन पायलट राजस्थान में पिछड़े समाज के बड़े नेता हैं। कांग्रेस ने वोट तो उनके नाम पर लिए लेकिन अशोक गहलोत आलाकमान को गुमराह कर खुद मुख्यमंत्री बन गए। आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी संसद में पिछड़े और अनुसूचित समाज को न्याय-सम्मान दिलाने की बात कहते हैं लेकिन कांग्रेस पिछड़े समाज के नेताओं से किनारा कर रही है। पिछड़ा समाज इसका बदला चुनाव में लेगा। उधर, इससे पूर्व उन्‍होंने रविवार को मुजफ्फरनगर जिले में आयोजित एक कार्यक्रम में भी सचिन पायलट को राजस्थान का मुख्यमंत्री बनाने की पुरजोर मांग की थी। 

गहलोत सरकार को लग चुके हैं दो-तीन झटके 

सांसद मलूक नागर ने सोमवार को अपने आवास पर प्रेस वार्ता में अशोक गहलोत को जादूगर बताते हुए कहा कि उनकी सरकार को दो-तीन झटके लग चुके हैं। देश में पिछड़े समाज की आबादी करीब 56 प्रतिशत है। अगर सचिन पायलट को कांग्रेस ने मुख्यमंत्री नहीं बनाया तो आने वाले चुनाव में पिछड़ा समाज कांग्रेस का बहिष्कार करेगा। एक सवाल के जवाब में कहा कि वह जातिगत तौर पर नहीं बल्कि समाज की बात कर रहे हैं। 

बसपा ने धारा 370 के मुद्दे पर सरकार का साथ दिया 

बसपा देश और जनहित को सर्वोपरि रखती है। धारा 370 के मुद्दे पर पार्टी ने सरकार का साथ दिया तो बाकी दलों ने कहा कि बसपा तो भाजपा के साथ खड़ी है। मुसलमानों का मुद्दा उठाया तो भाजपा वालों ने ही सपा से मिलने का जुमला उछाल दिया। सांसद ने कहा, मुसलमानों को आजमगढ़ के चुनाव में पता चल गया कि सपा का नीतिगत वोट खिसक जाता है जबकि बसपा का 13 प्रतिशत वोट उसके साथ रहा। उन्होंने मुसलमानों का झुकाव फिर से बसपा की ओर होने का दावा किया। खुद भी बसपा से ही लोकसभा चुनाव लड़ने की बात कही। कहा कि वह मई-2019 से अब तक 210 गांवों का दौरा कर चुके हैं।

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट