मेरठ। 'आज कचहरी में हमने बम रखा है। हमारे दोस्त को जेल कराई है। अब कचहरी गई। मजाक मत समझना। मौत ही मौत.'। सोमवार को यह चेतावनी लिखा एक पर्चा पूर्व बार संघ अध्यक्ष धीरेंद्र तोमर के चेंबर पर चिपका मिला। पर्चे को देखकर अधिवक्ताओं से लेकर न्यायधीशों और पुलिस अफसरों तक के होश उड़ गए। कचहरी को छावनी में तब्दील कर दिया गया। डॉग स्क्वायड भी बुला लिया गया। चप्पा-चप्पा छाना गया, लेकिन बम नहीं मिला। इसके बाद अफसरों ने राहत की सांस ली।

नौचंदी थानाक्षेत्र की राजेंद्र नगर कालोनी निवासी वरिष्ठ अधिवक्ता धीरेंद्र तोमर सोमवार सुबह अपने चेंबर पर पहुंचे तो बाहर की दीवार पर एक कागज चस्पा किया हुआ था। इस पर कचहरी में बम रखने की बात लिखी हुई थी। सूचना मिलने पर पूर्व बार एसोसिएशन अध्यक्ष राजीव नागर व महामंत्री प्रवीण सुधार भी पहुंचे। सूचना पर एसपी सिटी रणविजय सिंह, सिविल लाइन थाना प्रभारी रजनीश तिवारी पुलिस बल के साथ पहुंचे और कचहरी में चेकिंग कराई। संदिग्ध युवकों की तलाशी ली गई। कई युवकों को पूछताछ के लिए थाने भी लाया गया। देर रात तक पुलिस यह पता लगाने में विफल रही कि यह शरारत किसने की।

छह को हुई थी सजा

अधिवक्ता धीरेंद्र तोमर का कहना है कि वैसे तो वह कई मुकदमे लड़ रहे हैं, लेकिन गत छह सितंबर को उनके एक केस में सजा हुई थी। हालांकि वे लोग ऐसा नहीं कर सकते।

इन्होंने कहा--

कचहरी में एक अधिवक्ता के चेंबर पर कागज चिपका मिला है। इसमें कचहरी में बम रखने की बात कही गई है। मुकदमा दर्ज करके कार्रवाई की जा रही है। तलाशी में कुछ नहीं मिला है।

रणविजय सिंह, एसपी सिटी

Posted By: Jagran