मेरठ,जेएनएन। हस्तिनापुर से प्रभुदयाल वाल्मीकि को टिकट न मिलने से उनके समर्थकों में उबाल है। इंटरनेट मीडिया पर आक्रोश दिखाई दे रहा है। एक समर्थक लिख रहे हैं कि यह वाल्मीकि समाज का अपमान है। दूसरे समर्थक लिख रहे हैं कि अखिलेश यादव की पार्टी में ऐसा ही होता है। तीसरे समर्थक ने लिखा कि कम से कम भाजपा से सीख लेते। पुरकाजी से भाजपा ने वाल्मीकि को टिकट दिया है। एक अन्य समर्थक ने आक्रोश व्यक्त करते हुए अखिलेश यादव और नरेश उत्तम पटेल तक को ट्वीट कर दिया। हालांकि इस पर समर्थकों को जवाब देने वाले भी लोग रहे। इंटरनेट मीडिया पर ही उसका उत्तर आया कि प्रभुदयाल वाल्मीकि दो बार सपा से विधायक रहे हैं, तब के सम्मान को क्या भुला देंगे। मंत्री भी बनाए गए। अब किसी अन्य को मिल गया तो अपमान हो गया।

कुछ ने कहा फ्लूड लगाकर लिखा गया योगेश वर्मा का नाम

पार्टी की ओर से योगेश वर्मा को जो सिंबल दिया गया है। उस पर भी समर्थक तंज कर रहे हैं। उनका कहना है कि पहले इस पर प्रभुदयाल का नाम लिखा था जिस पर बाद में फ्लूड लगाकर योगेश का नाम किया गया है। सिबल को देखने से साफ पता चलता है। समर्थकों का कहना है कि किसी के दबाव में आकर बाद में निर्णय बदला गया है।

योगेश वर्मा का बयान

हस्तिनापुर से मुझे टिकट मिला है इसलिए पार्टी का आभार। कई लोग टिकट के दावेदार थे। जिन्हें नहीं मिल पाया है उन्हें भी मैं साथ लेकर चलूंगा। उनसे आशीर्वाद लूंगा। यह मेरा नहीं बल्कि पार्टी का चुनाव है। सभी को मिलकर पार्टी का साथ देना है।

-योगेश वर्मा, सपा प्रत्याशी, हस्तिनापुर

Edited By: Jagran