मेरठ, जेएनएन। यूपी बोर्ड, सीबीएसई और सीआइएससीई ने बोर्ड परीक्षा 2020 की तिथियां जारी कर दी हैं। बोर्ड परीक्षा फरवरी में शुरू होगी, लेकिन स्कूलों में परीक्षार्थियों की परीक्षा शुरू हो चुकी है। पूरे सत्र पढ़ाई कराने के बाद छात्र-छात्राओं की तैयारी को परखने के लिए प्री-बोर्ड परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं। सीबीएसई के कुछ स्कूलों में प्री-बोर्ड परीक्षा हो चुकी है तो कुछ स्कूल अब शुरू करने जा रहे हैं। आइसीएसई स्कूलों में भी प्री-बोर्ड परीक्षाएं हो चुकी हैं। यूपी बोर्ड के माध्यमिक स्कूलों में दिसंबर के तीसरे सप्ताह से प्री-बोर्ड परीक्षा शुरू होगी।

चलेंगी एक्स्ट्रा क्लास

प्री-बोर्ड परीक्षाओं के बाद स्कूलों में 10वीं व 12वीं के छात्र-छात्राओं की कक्षाएं नहीं चलती हैं। प्री-बोर्ड परीक्षा के मूल्यांकन के बाद स्कूलों में जरूरत के अनुरूप बच्चों के लिए प्रीपेटरी या रिफ्रेशर कोर्स चलाए जाते हैं। इसमें परीक्षार्थियों को अधिक से अधिक बोर्ड परीक्षा पद्धति से गुजारते हुए विभिन्न विषयों की तैयारी कराई जाएगी। इस दौरान तीनों बोर्ड की वेबसाइट पर दिए गए मॉडल पेपर को भी हल कराया जाता है।

प्रयोगात्मक परीक्षा शुरू

यूपी बोर्ड ने सबसे पहले डेटशीट जारी की थी। बोर्ड परीक्षा 18 फरवरी को 10वीं व 12वीं की बोर्ड परीक्षा शुरू होगी। यूपी बोर्ड की प्रयोगात्मक परीक्षाएं सोमवार 16 दिसंबर को शुरू हो चुकी हैं। मेरठ परिक्षेत्र के अंतर्गत आगरा व सहारनपुर मंडल में प्रयोगात्मक परीक्षा 29 दिसंबर तक चलेगी। मेरठ मंडल की प्रयोगात्मक परीक्षा 30 दिसंबर से शुरू होगी। सीबीएसई की भी प्रयोगात्मक परीक्षा एक जनवरी से शुरू होगी। कौशल विकास वाले विषयों की बोर्ड परीक्षा 15 फरवरी से शुरू होंगे। वहीं मुख्य विषयों की परीक्षा मार्च में होंगे। सीआइएससीई की 12वीं की बोर्ड परीक्षा 11 फरवरी से और 10वीं की बोर्ड परीक्षा 27 फरवरी से शुरू होगी। प्रयोगात्मक परीक्षा तीन फरवरी से ही शुरू होगी।

यूपी बोर्ड : इस बार पुख्‍ता इंतजाम

माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश (यूपी बोर्ड) की 2020 की बोर्ड परीक्षा पर जिला मुख्यालय से एडीएम स्तर के अधिकारी नजर रखेंगे। सभी परीक्षा केंद्रों पर लगे सीसीटीवी से राउटर के जरिए लाइव फीडिंग में कंट्रोल रूम से नजर रखेंगे। सोमवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बोर्ड परीक्षा को लेकर पूरा सख्त इंतजाम करने को कहा है। जिला विद्यालय निरीक्षक गिरजेश कुमार चौधरी के अनुसार मुख्यमंत्री ने सेक्टर व जोनल मजिस्ट्रेट के साथ ही स्टेटिक मजिस्ट्रेट भी नियुक्त करने को कहा है। समय रहते यह तैयारियां होने से बोर्ड परीक्षा में कोई दिक्कत नहीं होगी।

केंद्रों की लाइव तस्वीरें

डीएम की अध्यक्षता वाली समिति कंट्रोल रूम के लिए स्थान चिन्हित करेगी। कंट्रोल रूम में कुछ कंप्यूटर स्क्रीन लगाए जाएंगे जिससे जिले में बनाए गए सभी 101 परीक्षा केंद्रों की लाइव तस्वीरें देखी जा सकें। इसकी मानिटरिंग दोनों पालियों की परीक्षा के दौरान एडीएम स्तर के अधिकारी की अगुवाई में पूरी टीम करेगी। किसी भी केंद्र पर सीसीटीवी कैमरे में कोई भी हरकत दिखने पर उस केंद्र पर छापेमारी की जाएगी।

72 केंद्रों पर लगे राउटर

जिविनि के अनुसार जिले में बने 101 परीक्षा केंद्रों में से अब तक 72 केंद्रों पर राउटर लग चुके हैं। बोर्ड परीक्षा के पहले शेष केंद्रों पर भी राउट लगा लिए जाएंगे। ज्ञातव्य है कि दो साल पहले जहां परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए गए थे वहीं वर्ष 2019 की बोर्ड परीक्षा में वायस रिकॉर्डर भी लगवाए गए। अब इस साल सभी केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों की लाइव फी¨डग देखने के लिए राउटर भी लगवाए जा रहे हैं जिससे जिला मुख्यालय स्तर पर हर केंद्र के हर कक्ष की परीक्षा लाइव देखी जा सकेगी।

स्कूल अपना रहे यह तरीका

छात्र-छात्राओं की बेहतरीन तैयारी के लिए सेंट मेरीज एकेडमी सहित शहर के कुछ स्कूलों में दो-दो प्री-बोर्ड परीक्षाएं कराई जा रही हैं। पहला प्री-बोर्ड दिसंबर के प्रथम पखवाड़े में ही हो चुका है। अब दूसरा प्री-बोर्ड जनवरी महीने में होगा। इससे परीक्षार्थियों की तैयारियों का सटीक आकलन भी हो जाता है। वहीं, स्कूलों को भी यह पता चल जाता है कि बोर्ड परीक्षा में किन छात्रों के 90 फीसद से अधिक अंक रहेंगे। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस