संतोष शुक्ल, मेरठ। Benefit Of Belpatra आयुर्वेद की गोद में सेहत का हरा-भरा संसार फलता-फूलता है। अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति भी आयुर्वेद के खजाने से अमृत खोजती रही है। मेडिकल कालेज के फार्माकोलाजी विभाग के शोध में पता चला कि बेलपत्र के महकते पत्तों में दिल को सेहतमंद बनाने का गुण होता है। बेलपत्र का एंटीआक्सीडेंट गुणधर्म क्षतिग्रस्त हुए दिल को रिपेयर कर सकता है। यह शोध इंटरनेशनल फार्माकोलाजी जर्नल बस क्लिन फार्मा में छपा है।

कैंसर की दवा से क्षतिग्रस्त किया दिल

फार्माकोलाजी विभाग के विभागाध्यक्ष डा. केके सक्सेना ने बताया कि बेल के फल के साथ ही बेलपत्र में चमत्कारिक औषधीय गुण मिले हैं। उनकी निगरानी में विभाग की पिंकी विश्वकर्मा, प्रतीक, राजकुमार गोयल, मोनिका शर्मा व मनीष सैनी ने बेलपत्र पर लंबा शोध किया। चूहों के पांच ग्रुप बनाकर उन पर बेलपत्र के अर्क का परीक्षण किया गया। एक ग्रुप में चूहों को सिर्फ नमक का पानी, दूसरे ग्रुप में नमक के पानी के साथ हार्ट को क्षतिग्रस्त करने वाली एंटी-ट्यूमर दवा डाक्सोरूबिसिन दी गई। तीसरे ग्रुप में रक्तचाप को नियंत्रित करने वाली और हार्ट की पंपिंग ठीक वाली दवा कार्वेडिलाल दी गई। चौथे ग्रुप के चूहों पर ढाई सौ और पांचवें ग्रुप के चूहों पर पांच सौ मिलीग्राम प्रति किलोग्राम के अनुपात से बेलपत्र का अर्क दिया गया। जिन चूहों को डाक्सोरूबिसिन दवा दी गई थी, उनका हृदय क्षतिग्रस्त हो गया। काॢडयक सीरम मार्कर यानी सीकेएमबी, एलडीएच, एसजीटी व एसजीपीटी खतरनाक स्तर तक बढ़ गए। दवा से शरीर में बनने वाले फ्री रेडिकल से हृदय को ज्यादा खतरा हुआ लेकिन चूहों को बेलपत्र का अर्क देने पर हृदय पर दवा का विषाक्त प्रभाव नहीं पड़ा। बेलपत्र में पाए जाने वाले रसायन से चूहों के दिल की रिपेयरिंग हो गई। यह हार्ट की बीमारियों के साथ ही शुगर को भी नियंत्रित करता है।

इनका कहना है

बेलपत्र के अर्क पर किया गया शोध दुनियाभर में सराहा गया। इसका एंटीआक्सीडेंट गुण फ्री रेडिकल्स को हार्ट तक जाने से रोकता है। इससे हार्ट स्वस्थ रहेगा। पांच ग्रुप बनाकर चूहों पर शोध किया था। बेलपत्र व बेल से लोगों की सेहत को चमत्कारिक लाभ मिलता है। बेलपत्र में तेज गंध के साथ कई असरकारक रसायन होते हैं।

- डा. केके सक्सेना, विभागाध्यक्ष, फार्माकोलाजी विभाग, मेडिकल कालेज मेरठ।

भारतीय ग्रंथों में बेल को दिव्य वृक्ष कहा गया है। बेलपत्र खून की कमी, कब्ज, कैंसर, सूजन और शुगर को दूर करने में सहायक होता है। यह बेहतरीन एंटीआक्सीडेंट है, जो शरीर में घूमने वाले फ्री रेडिकल्स को खत्म कर त्वचा को जीवंत बनाकर रखता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल गुणधर्म होता है। बलगम बाहर निकालने व रक्त को शुद्ध करने में भी कारगर है।

- डा. देवदत्त भादलीकर, प्राचार्य, महावीर आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज

Edited By: Prem Dutt Bhatt