मेरठ, जेएनएन। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से संबंध महाविद्यालयों में बीएड अंतिम वर्ष की परीक्षा छह अक्टूबर से प्रस्तावित है। परीक्षा के लिए कई बार केंद्र तय किए गए लेकिन कोरोना को देखते हुए कई परीक्षा केंद्र बदल दिए गए हैं। विश्वविद्यालय की ओर से कंटेंटमेंट जोन को छोड़कर अन्य क्षेत्रों में परीक्षा केंद्र बनाए जा हैं। शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ाई जा रही है। पहले एडेड कॉलेजों को ही परीक्षा केंद्र बनाया गया था। अब कई सेल्फ फाइनेंस कॉलेज भी केंद्र बने हैं। बीएड की परीक्षा में करीब 29 हजार छात्र- छात्राएं सम्मिलित होंगे। इसमें 19 हजार छात्राएं हैं। 10 हजार के करीब छात्र हैं। किसी भी परीक्षा केंद्र पर एक हजार से अधिक अभ्यर्थी नहीं रहेंगे। परीक्षा नियंत्रक प्रोफेसर रूपनारायण का कहना है कि परीक्षा केंद्रों की सूची जारी होने के बाद ही परीक्षार्थी अपने एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकेंगे। विश्वविद्यालय की बीएड परीक्षा शुरू होने से पहले अन्य परीक्षाएं भी हो जाएंगी।

मूल्यांकन की तैयारी

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय अब मुख्य परीक्षा के साथ मूल्यांकन की तैयारी में भी जुट गया है। स्नातक अंतिम वर्ष की परीक्षा ओ ओएमआर आधारित है। जिसमें इनका रिजल्ट जल्दी निकल जाएगा। विस्तृत उत्तरीय के लिए तैयारी की जा रही है ताकि परीक्षा खत्म होने के तुरंत बाद से रिजल्ट भी घोषित किया जा सके। स्नातक का रिजल्ट नहीं घोषित होने की वजह से छात्र परास्नातक में पंजीयन नहीं कर पा रहें हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021