मेरठ, जागरण संवाददाता। Anishu Pandit gang मेरठ में उधारी मांगने पर अनीशु पंडित गैंग के सदस्यों ने व्यापारी को घर मे घुसकर जान से मारने की धमकी दी है। जिस वजह से व्यापारी का घर से निकलना दूभर हो गया। थाना स्तर पर तहरीर देने के बाद भी कार्रवाई नहीं कि गई। पीड़ित ने सीओ से मामले की शिकायत की है। सीओ ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्‍वासन दिया है।

दो लाख दिए थे उधार

लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र के उज्जवल गार्डन निवासी अजहरूद्दीन उर्फ सलमान पुत्र रियाजुद्दीन के मुताबिक उन्होंने अपने बहनोई शाहरुख के चचेरे भाई मोहसिन निवासी सुल्तान चौक हिंडन विहार निवासी गाजियाबाद को दो लाख रुपये उधार दिए थे। रुपयों के लेन-देन को लेकर अजरुदीन का सलमान से विवाद हो गया।

जांच के बाद होगी कार्रवाई

इसी बीच उन्होंने एक लाख रुपये वापस कर दिए। बाकी बचे पैसे मांगने पर सलमान ने अनीशु पंडित गैंग के सदस्यों से अजहरुद्दीन को जानलेवा धमकी दिलाई है। जिस वजह से व्यापारी का घर से निकलना दूभर हो गया है। शिव कोतवाली अरविंद चौरसिया ने लिसाड़ी गेट थाना प्रभारी को जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। वहीं जान की धमकी मिलने के बाद पीड़तों में भय है।

बुजुर्ग को चाकू मारकर किया घायल

वहीं दूसरी ओर मेरठ के ब्रह्मपुरी थाना क्षेत्र के माधवपुरम सेक्टर-एक निवासी अनिल चौहान के मुताबिक रविवार रात उसका बेटा गुलशन सीढ़ी लेकर आ रहा था। इसी बीच क्षेत्र में रहने वाला संदीप उसे मिल गया। संदीप उनके बेटे पर अभद्र टिप्पणी करने लगा। वस वजह से दोनों युवकों के बीच विवाद हो गया। उस समय मोहल्ले के लोगों ने दोनों को समझाकर घर भेज दिया। आरोप है कि सोमवार देर रात रंजिशन संदीप ने अपने साथियों संग मिलकर गुलशन के घर हमला कर दिया। मारपीट के दौरान अनिल चौहान की गर्दन पर हमलावरों ने चाकू मार दिया। वह लहूलुहान हो गए। इसके अलावा मारपीट में सिम्मी चौहान के पैर में भी गंभीर चोट आई है। वन्हें पुलिस ने स्थानीय लोगों की सहायता से जिला अस्पताल में भर्ती कराया। थाना प्रभारी का कहना है कि आरोपितों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

पीली पर्ची दिलाने के नाम पर वसूले दो हजार

मेरठ : टीपीनगर थाना क्षेत्र के शिवपुरम निवासी आरती पत्नी राजेंद्र ने बताया कि उसका क्षेत्र में रहने वाले एक व्यक्ति से विवाद चल रहा है। थाना स्तर पर कार्रवाई नहीं होने पर उसका संपर्क एक रिश्तेदार ने अधिवक्ता से कराया। अधिवक्ता ने मुकदमा दर्ज कराने के नाम पर दस हजार रुपये व पीली पर्ची दिलाने के नाम पर दो हजार रुपये वसूल लिए। महिला ने अधिवक्ता के खिलाफ तहरीर दी है।

Edited By: Prem Dutt Bhatt