मेरठ,जेएनएन। अधिवक्ता नरेंद्र शर्मा और मेरठ बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों के बीच चल रहा विवाद अब बार काउंसिल उत्तर प्रदेश के दरबार में पहुंच गया है। काउंसिल अध्यक्ष ने दो सदस्यों की विशेष समिति से इसकी जांच कराने का निर्णय लिया है। समिति 25 सितंबर को मेरठ आकर ही यह जांच करेगी।

अधिवक्ता नरेंद्र शर्मा को मेरठ बार एसोसिएशन द्वारा बार से निकाल दिया गया था। जिसके विरोध में अधिवक्ता नरेंद्र शर्मा ने बार काउंसिल आफ उत्तर प्रदेश में शिकायत की थी। उक्त शिकायत पर बार काउंसिल आफ उत्तर प्रदेश ने दो सदस्यों की कमेटी गठित की है। जिसमें खुद बार काउंसिल अध्यक्ष श्रीश कुमार मेहरोत्रा व बार काउंसिल के सदस्य व पूर्व अध्यक्ष बलवंत सिंह शामिल हैं। बार काउंसिल के सदस्य सचिव प्रशात सिंह अटल ने मेरठ बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और मंत्री को पत्र भेजकर सुनवाई की जानकारी दी है, ताकि उक्त तिथि व समय पर उपस्थित वे होकर अपने तथ्य साक्ष्य और कथन समिति के सामने प्रस्तुत कर सकें। उधर, मेरठ बार एसोसिएशन अध्यक्ष महावीर सिंह त्यागी ने कहा कि मेरठ बार की ओर से बार काउंसिल को शिकायत भेजी गई थी, लेकिन बार काउंसिल की जांच समिति के आगमन की अभी हमारे पास कोई सूचना नहीं है।

कल महिलाओं की व्यथा सुनेंगीं आयोग की सदस्य : राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी 22 सितंबर को मेरठ आएंगी। यहां वे सर्किट हाउस में सुबह साढ़े दस बजे से जनसुनवाई करेंगी। जिला प्रोबेशन अधिकारी अजीत कुमार ने बताया कि राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य जनसुनवाई के दौरान उत्पीड़न की शिकार महिलाओं की समस्या सुनेंगीं व उनके त्वरित समाधान का निर्देश देंगी। इस दौरान वे समीक्षा बैठक भी करेंगी।

Edited By: Jagran