मेरठ, जेएनएन। मेरठ में शुक्रवार को हुई घटना के बाद जिला-प्रशासन भी सतर्क हो गया है। भविष्य में इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति न हो। इसके लिए जल्दी शहर के सभी संवेदनशील और अतिसंवेदनशील क्षेत्रों में व्यापारियों आदि के सहयोग से सीसीटीवी कैमरे लगाएं जाएंगे। ताकि ऐसे क्षेत्रों पर हर पल पैनी नजर रखी जा सके। सर्राफा बाजार में आए दिन होने वाली आपराधिक घटनाओं के बाद जिला व पुलिस प्रशासन के अधिकारियों ने सर्राफा व्यवसायियों को प्रोत्साहित करके कई जगह सीसीटीवी कैमरे लगवाएं हैं। जिसके सार्थक परिणाम सामने आए हैं। घटना के बाद पुलिस सीसीटीवी कैमरों की मदद से अपराधियों तक पहुंच सकी है।

दुकानदारों को करेंगे प्रोत्‍साहित

उसी प्रयोग को अब शहर के संवेदनशील व अतिसंवेदनशील क्षेत्रों में किया जाएगा। इनमें मुख्य रूप से शुक्रवार को हुई घटना से प्रभावित क्षेत्र भी शामिल हैं। इसके लिए क्षेत्रीय व्यापारियों व दुकानदारों को प्रोत्साहित किया जाएगा कि वह चिन्हित स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगवाएं। इन कैमरों के माध्यम से जिला व पुलिस प्रशासन के अधिकारी इन स्थानों पर हर पल पैनी नजर रखेंगे। एडीएम सिटी अजय कुमार तिवारी का कहना है कि कैमरों के लगने से व्यापारियों व दुकानदारों के साथ क्षेत्रीय लोग भी सुरक्षित रह सकेंगे।

शांति समिति की बैठक आज

शहर के सामान्य हो रहे हालात में लोगों का एक दूसरे के प्रति विश्वास बनाए रखने के लिए भी प्रयास शुरू हो गए हैं। इसके लिए सोमवार को पुलिस लाईन में शांति समिति की बैठक बुलायी गई है। जिसमें प्रशासन के साथ ही पुलिस के आला अफसर भी मौजूद रहेंगे। शहर के सभी गणमान्य लोगों को भी बैठक में आमंत्रित किया जाएगा ताकि शहर में पूरी तरह शांति व सद्भाव का माहौल बना रहे। इसके बाद थाना स्तर एवं कालोनीवार भी शांति समिति की बैठक कराने की तैयारी जिला प्रशासन ने की है।

अधिकारियों ने किया भ्रमण

एडीएम सिटी अजय कुमार तिवारी के नेतृत्व में रविवार को एसपी सिटी डा. अखिलेश नारायण सिंह व सिटी मजिस्टेट संजय कुमार पांडेय समेत अन्य अधिकारियों ने लिसाड़ी गेट, भूमिया का पुल, एल ब्लाक शास्त्रीनगर से लेकर हापुड अड्डा एवं बेगमपुल आदि क्षेत्रों का भ्रमण किया। इस दौरान लोगों से बातचीत कर माहौल को सद्भाव पूर्ण बनाए रखने की अपील की।

हिंसा का वीडियो अपलोड करने पर केस

इंटरनेट चालू करने के बाद ही पुलिस ने व्यवस्था भी बना दी है। आइजी ने आदेश कर दिया कि हिंसा की वीडियो सोशल साइट्स पर वायरल करने पर तत्काल मुकदमा दर्ज किया जाएगा। एसटीएफ और आइजी की साइबर सेल टीम को देख रेख के लिए लगा दिया है। आइजी आलोक सिंह ने बताया कि वीडियो डालने वाले आरोपित की गिरफ्तारी के लिए क्राइम ब्रांच की टीम को लगा दिया है। ऐसे लोगों पर हिंसा कराने की साजिश का मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

आक्रोश फैलने की आशंका

एसपी सिटी अखिलेश नारायण ने बताया कि खुफिया इनपुट है कि हिंसा की वीडियो डालकर कुछ लोग उस पर कमेंट कर सकते है, जिसे लेकर लोगों में आक्रोश फैलने की आशंका है। ऐसे में हिंसा फिर से भड़क सकती है। पुलिस ने हिंसाग्रस्‍त शहर के कुछ मोबाइल नंबर भी हासिल कर लिए है। इंटरनेट शुरू होने के बाद टीम ने उनके वाट्सएप की निगरानी शुरू कर दी। 

Posted By: Prem Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस