मेरठ, जेएनएन। रुपहले पर्दे पर अब तक हम 'ढाई किलो के हाथ' की धमकी और 'ढाई आखर प्रेम के' सूत्र सुनते रहे हैं। अब एक जोड़ी ऐसी है जिसने रील लाइफ में 'ढाई किलो प्रेम' का पाठ पढ़ाया और अब रीयल लाइफ में भी एक होकर ढाई किलो से भी ज्यादा प्रेम वाले रिश्ते में बंधने जा रही है। धारावाहिक 'पवित्र रिश्ता' के सतीश और 'ये है मोहब्बतें' के परम का किरदार निभाने वाले अभिनेता अनुराग शर्मा के जहन में इन दिनों 'ढाई किलो प्रेम' की अभिनेत्री नंदिनी गुप्ता है, जिनके साथ वह जनवरी में सात फेरे लेंगे। शादी के जोड़े के लिए मेरठ के रहमान्स पहुंचे अनुराग-नंदिनी ने अभिनय से लेकर अपने रिश्तों के बारे में खुलकर बात की। पेश हैं मुख्य अंश.. पद्मावत के रणवीर जैसा किरदार निभाना है

माडलिंग के बाद टीवी के पर्दे पर अभिनय करते हुए अनुराग पवित्र रिश्ता, ये है मोहब्बतें, तेरे लिए, ब्याह हमारी बन्नो का, अदालत, ये है आशिकी और जोधा अकबर में महाराणा प्रताप का किरदार निभा चुके हैं। अनुराग अब टीवी के साथ ही फिल्में व वेब सिरीज में भी काम करेंगे। अनुराग बताते हैं कि उन्हें फिल्म पद्मावत में रणवीर सिंह के जैसा किरदार निभाने की इच्छा है जिसमें अभिनय के भरपूर प्रदर्शन का अवसर मिलता है। शादी की तैयारियों के चलते बिग बॉस शो का हिस्सा नहीं बन सके। जल्द ही बड़े पर्दे के साथ ही नंदिनी के साथ भी स्क्रीन साझा करते दिखेंगे।

टैलेंट और नसीब से मिलता है काम

अनुराग बताते हैं कि मेरठ सहित आसपास के क्षेत्र से बहुत कलाकार इंडस्ट्री से जुड़ रहे हैं। अब काम की कमी नहीं है। तमाम चैनलों के धारावाहिकों के साथ ही वेब सिरीज और फिल्में बहुत बन रही है। पर काम केवल उसी को मिलता है, जिसे काम आता है या फिर नसीब अच्छा हो। जो मेहनत करता है वह लगातार आगे बढ़ता है।

70 फीसद शौकिया कलाकार

अनुराग के अनुसार इंडस्ट्री में पहुंचने वाले 100 में से 15 ही अच्छे अभिनेता होते हैं। 25 से 30 की संख्या तक ठीक कहा जा सकता है जबकि 70 फीसद लोग शौकिया एक्टर बनने जाते हैं। इन्हें लौटना पड़ता है। अनुराग व नंदिनी दोनों का मानना है कि अभिनेता वही है जिसके निभाए चरित्र आपके दिल और दिमाग में असर कर जाएं।

ढाई किलो से ज्यादा मिला प्रेम

निगेटिव किरदार में अवार्ड प्राप्त कर चुके अनुराग की नंदिनी को उनका वहीं किरदार बेहद पसंद है। नंदिनी बताती हैं कि अनुराग निजी जीवन में बेहद शांत हैं लेकिन कैमरे पर पूरी तरह किरदार में ढल जाते हैं। मैं निजी जीवन में काफी प्रेमी सोल हूं इसीलिए मुझे रील के ढाई किलो प्रेम से ज्यादा प्रेम निजी जीवन में मिला है। अनुराग ने जितनी मेहनत अभिनय में की उतनी ही मुझे पाने के लिए भी। इसलिए यदि पर्दे के किरदार का असर भी उन पर पड़ता है जो लाइफ थोड़ी मसालेदार हो जाएगी।

मुझे मिला छोरा गंगा किनारे वाला

दिल्ली की नंदिनी प्रयागराज के अनुराग को अपना छोरा गंगा किनारे वाला कहती हैं। नंदिनी कहती हैं कि उनकी शादी भले ही दिल्ली में हो लेकिन रिसेप्शन संगम किनारे ही होना चाहिए। इसीलिए दोनों ने 31 जनवरी को प्रयागराज में प्रशासन की अनुमति से गंगा के किनारे रिसेप्शन की तैयारी कर रखी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप